.
Skip to content

( हाइकु) सफर

Geetesh Dubey

Geetesh Dubey

हाइकु

April 6, 2017

हाइकू
******

मेरा सफर
किस तरह कटा
नही खबर

चलता रहा
मदहोशियों संग
मै बेखबर

साथ अपने
काफिला कोई नही
सूनी डगर

दिखने लगीं
मंज़िलें जो दूर थीं
आई सहर

शुक्रिया तु्म्हे
डाली जो हम पर
इक नज़र।

?गीत??

Author
Geetesh Dubey
Recommended Posts
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
क्यू नही!
रो कर मुश्कुराते क्यू नही रूठ कर मनाते क्यू नही अपनों को रिझाते क्यू नही प्यार से सँवरते क्यू नही देख कर शर्माते क्यू नही... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more