.
Skip to content

हाइकु : बेटी

प्रदीप कुमार दाश

प्रदीप कुमार दाश "दीपक"

हाइकु

January 22, 2017

प्रदीप कुमार दाश “दीपक”

बेटी
01.
नन्हीं सी कली
फूल बन बिटिया
महका चली ।
00
02.
कोख से बची
दहेज से बचेगी
गर पढ़ेगी ।
00
03.
जड़ सिंचती
पीहर आती बेटी
ओस की लड़ी ।
00
04.
माता की छाया
पिता का अभिमान
बेटी है शान ।
00
05.
साँस है बेटी
मखमली नर्म सी
घास है बेटी ।
00
06.
फूल ना होंगे
कैसे आएगी बहू
फल पाओगे ।
00
07.
नर न छलो
गर्भ की कन्याओं को
मत संहारो ।
0000
-प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
मो. नं. 7828104111

Author
प्रदीप कुमार दाश
हाइकुकार : ♢ प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ♢ सम्प्रति : हिन्दी व्याख्याता 13 कृतियाँ : -- मइनसे के पीरा, हाइकु चतुष्क, संवेदनाओं के पदचिह्न, रुढ़ियों का आकाश, हाइकु वाटिका, हाइकु सप्तक, हाइकु मञ्जूषा, झाँकता चाँद, प्रकृति की गोद में, ताँका... Read more
Recommended Posts
बेटी : हाइकु
प्रदीप कुमार दाश "दीपक" हाइकु : बेटी 01. कैसे उड़ेगी पंखहीन चिड़िया ओ री ! बिटिया । 00 02. उड़ी चिड़िया ले माँ बापू से... Read more
नक्षत्रों पर हाइकु
प्रदीप कुमार दाश "दीपक" -------------------------------- 28 नक्षत्रों पर हाइकु ☆☆☆☆☆☆ 01. सूर्य की पत्नी साहस व शौर्य की माता अश्विनी । 00 02. यम का... Read more
बेटियाँ
प्रदीप कुमार दाश "दीपक" बेटियाँ ----------- बेटियाँ बाती स्वयं को वे जलातीं उजास लातीं महकातीं आँगन घर खुशियाँ लातीं नन्हीं कलियाँ चहकतीं पंछियाँ हँसतीं गातीं... Read more
चार सेदोका
प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ----------------- चार सेदोका 01. ईश की धुन जीवन एक थाप मन रागिनी सुन पाखी की भाँति तृण-तृण को चुन गुना सृजन... Read more