.
Skip to content

दो पल की मौत

Govind Kurmi

Govind Kurmi

कविता

December 27, 2016

एक ठोकर सी लगी दिल में सांसें ही थम गईं ।

झटका था इस कदर की रूह तक सहम गई ।

चारों ओर सन्नाटा था हर ओर अंधेरा था ।

ये कहां पहुंच गया में मुझको सायों ने घेरा था ।

थोड़ी ही देर में मुझको कुछ आवाज सुनाई दी ।

घबराहट तब कम हुई जब भैंस आती दिखाई दी ।

जो कुछ भी में देख रहा वो पहले से अनदेखा था ।

हंसी आ गई घबराई सी जब भैंस पर दूल्हा देखा था ।

कुछ ढोल पीट रहे थे कुछ शंखनाद करने लगे ।

कुछ समझ ना आया क्यों सब उससे फरियाद करने लगे ।

दूल्हे के एक इशारे पर रोशनी छाई चारों ओर ।

होश उड़ गये हमारे देखकर हुआ में भय विभोर ।

पकड़े थे जो मुझको उन मुस्तन्डों का रंग काला था ।

घर्णित मुंह से देखा उनको बमुश्किल होश संभाला था ।

कौन था वो भैंसे पर मसखरा जिसका लिवाज था ।

घूर रहा था मुझको ऐसे जैसे हमसे नाराज था ।

बारी बारी से सब उसको कुछ सुनाने लगे ।

कुछ देर से वो मेरा परिचय उससे कराने लगे ।

बातें उनकी सुनकर हम भी कुछ घबराने लगे ।

ना मिला जिनसे कभी वो हमारी कहानी सुनाने लगे ।

एक डाकिये ने हमारी दास्तान उसको बतलाई ।

जो हम भी भूल चुके थे वो बातें याद दिलाई ।

वो बोला क्यों लाये इसे ये मौत से काफी दूर है ।

गुनाह नहीं कोई इसका बस यह तो इश्क में चूर है ।

ले जाओ वापिस इसे अभी बहुत काम करना है ।

शायरों में अपना नाम और आशिक दिलों को गुलाम करना है ।

शायर ऐ हिंद और बहुत कुछ इसे कहा जायेगा ।

धीरे-धीरे ही सही ये हर दिल पर छा जायेगा ।

उसके एक इशारे पर हमको वहीं से फेंका ।

हाथ पैर सब सलामत थे जब उठकर हमने देखा ।

सलामत होकर भी में इसकदर बेवजह चिल्लाया ।

होश तो आया तब जब मां ने कान के नीचे बजाया ।

रोते हुये उन्होंने हमको सीने से लगाया ।

ना करना फिर ऐसा मजाक बड़े प्यार से समझाया ।

Author
Govind Kurmi
गौर के शहर में खबर बन गया हूँ । १लड़की के प्यार में शायर बन गया हूँ ।
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 मदयुक्त भ्रमर के गुंजन सी, करती हो भ्रमण मेरे उर पर। स्नेह भरी लतिका लगती , पड़ जाती दृष्टि जभी तुम पर।। अवयव की... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more