.
Skip to content

सुनो बेटियों

डॉ गरिमा संजय दुबे

डॉ गरिमा संजय दुबे

कविता

January 29, 2017

सुनो बेटियों

डॉ . गरिमा संजय दुबे

तुम हिमालय सी उत्तंग किंतू
तुम्हारा कद , तुम्हारे स्कर्ट के छोटे
होने पर निर्भर क्यों रहे ?
तुम हीरे सी प्रकाशवान किंतू
तुम्हारी चमक नकली जेवरों और
मेक अप की  मोहताज़ क्यों रहे ?
तुम आधुनिका , तुम सुपर वीमेन
फिर तुम्हे स्वतंत्रता के छदम् आवरण
क्यों ओढ़ना पड़े?
बन दुर्गा करती रहना संहार हर
अनीति अन्याय का ,
किंतू भटक न जाना कहीं अपनी
राह से , भूल न जाना भेद
स्वतंत्रता और स्वच्छंदता का ,
शक्ति न बने बदले का हथियार
विकृत न हो सत्ता और अधिकार

न समझ लेना कि
पुरुष जैसा होना ही ,
स्वतन्त्र होना होता है ,
मत चलना इस शार्ट कट पर जहां ,
खो दोगी अपना नैसर्गिक नारीत्व
क्योंकि तुम सृजन हो ,
विध्वंस नहीं ,
तुम्हारा नारीत्व ही
है अंतिम आस
मनुष्यता के उज्जवल भविष्य की
खींच लाना है तुम्हे पुरुषों को ,
हिंसा और अभिमान के अंधे कुओं से ,
सिखलाना है नीति अनीति के भेद को ,
स्थापित करना है समता मूलक समाज
जहां गलत सबके लिए गलत हो ।

किंतू राह है कठिन ,
न होगा आसान लड़ना
पुरुष के दम्भ से ,
न होगा आसान लड़ना नारीवाद के
छदम् नारो से ,
तो डरकर कहीं छोड़ न देना आस ,
और पकड़ न लेना पुरुष होने की सरल राह ,
पुरुष होना बड़ा सरल है ।
रात को पब में नशा करते , गाली देते
हिंसा और ब्लैक मेलिंग के किस्से,
पल पल बॉय फ्रेंड बदलने को
न समझ लेना स्वतंत्रता ,
मत लेना पहन समझ
उन्हें आधुनिकता के मैडल ।
कुछ सरफिरे मार रहे है तुम्हारे सर पर ,
स्वतंत्रता के मखमल में लिपटा शोषण का जूता ।

निर्णय के सारे अधिकार तुम्हारे ,
क्या चाहती हो कीचड़ हो जाना ?
या कीचड़ में इतने कमल खिलाना
कि कीचड़ का अस्तित्व ही न रहे ।
सुन रही हो ना बेटियों ।

Author
Recommended Posts
क्यों बिन तेरे जिंदगी सुनी सी है/मंदीप
क्यों बिन तुम्हारे जिंदगी सुनी सी है/मंदीप क्यों बिन तुम्हारे जिंदगी सुनी सी है, क्यों आज आँखो में नमी सी है। तरस गए दिलबर देखने... Read more
कौन हो तुम
कौन हो तुम जो चुपके से अंदर चले आ रहे हो कौन हो तुम जो बिन आहट अन्तस मैं दस्तक दे रहे हो फूल मुरझा... Read more
तुम हो तो..................
तुम हो तो सब कुछ है तुम हो तो सपने हैं तुम हो तो बहुत से रिश्ते अपने हैं तुम हो तो सपनों के रंग... Read more
तुम.... तब और अब (हास्य-कविता)
तुम.... तब और अब **************************************** तब तुम अल्हड़ शोख कली थी, अब पूरी फुलवारी हो, तब तुम पलकों पर रहती थी, अब तुम मुझ पर... Read more