.
Skip to content

समसामयिक

अमरेश गौतम

अमरेश गौतम

मुक्तक

June 28, 2017

बगावत छेंड़ दी, बाग की लताओं नें,
माली कैद है, हमपर राज किसका है।
कारजा़र सा माहौल है, अपनों का अपनों से,
अपना सा ये काजि़ब, समाज किसका है।

Author
अमरेश गौतम
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता
Recommended Posts
**   तीर चल गया  **
सन्नन सा आँखों से तीर चल गया ना जाने किसका सितारा ढल गया सौख नजरों से बच के निकल जाना अब ना जाने दिन किसका... Read more
दरख़्त
गज़ल 【दिल से ")】 " लाज़मी सा एक तू " फ़ासला सी रही जिंदगी कभी अपनों के दरम्यां कभी दरख्तों के नीचे फिर लाज़मी सा... Read more
अपनी जमीं पर.....
आसमां-सा ऊँचा उठकर झिलमिल सपनों में खो जाऊँ ! अपनों की ही आर्त पुकार एक बधिर वत् सुन न पाऊँ ! सागर - सी गहराई... Read more
अपनों ने ही हमको संभलने नही दिया
अपनों ने ही हमको संभलने नही दिया कदम ब कदम हमको चलने नही दिया ***************************** ढूंढते ही रहे वो अश्क़ आँखों मे मेरी कतरा भी... Read more