.
Skip to content

सत्ता कितनी प्यारी

डी. के. निवातिया

डी. के. निवातिया

मुक्तक

April 29, 2017

सत्ता कितनी प्यारी

मेरे देश के हुक्मरानो को सत्ता कितनी प्यारी है
रोज़ मरे मजदूर किसान सैनिको ने जान वारी है
आदि से अंत तक का इतिहास उठाकर देख लो
कब किसी प्रधान ने की इसके निवारण की तैयारी है !!

!
!
!

डी के निवातिया

Author
डी. के. निवातिया
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का... Read more
Recommended Posts
“माँ तू कितनी प्यारी है“
बंद किये ख्वाबो के पलके, मै तेरे जीवन में आया आँख खुली तो सबसे पहले माँ मैंने तुझको ही पाया तेरे गोद में मैंने अपना... Read more
हिंदी दिवस पर चार पंक्तियाँ
"हिन्दी" पर मेरा प्रयास ??? कितनी सरस है प्यारी भाषा हमारी हिन्दी सारे जगत में न्यारी सबकी दुलारी हिन्दी संकल्प आज कर लें सम्मान यूँ... Read more
अनुभूति प्यारी सी ...
अनुभूति प्यारी सी ! ---------------------- मीठी-सी प्यारी -सी कितनी न्यारी-सी ... प्रेम-प्यार की अनुभूति जगा देती तन-मन में नई ऊर्जा नई स्फूर्ति सब कुछ खिलखिलाता... Read more
काश मेरे भी एक बेटी होती
????? ए काश मेरे भी एक प्यारी सी बेटी होती परियों से उसे सजाती ?????? दो प्यारी सी चोटी तेरी बनाती सुंदर सपनो की दुनियॉ... Read more