Skip to content

शायरी तक आ गए

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

गज़ल/गीतिका

June 4, 2016

हम जो डूबे प्यार में तो शायरी तक आ गए
भाव दिल के सब उतर कर लेखनी तक आ गए

जीत तो पाये नहीं हम दिल तुम्हारा प्यार में
पर ख़ुशी है हम तुम्हारी दोस्ती तक आ गए

नाम पर अब आधुनिकता के यहाँ पर दोस्तो
नौजवानों के कदम आवारगी तक आ गए

याद की पगडंडियों पर चलते चलते हम यहाँ
अपने पहले प्यार की सँकरी गली तक आ गए

जानते थे प्यार का मतलब नही हम ‘अर्चना’
पर चले जब राह इसकी बन्दग़ी तक आ गए
डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
गज़ल :-- मैकदों में लड़खड़ाने आ गए ॥
गज़ल :--मैकदों में लड़खड़ाने आ गए ॥ प्यार वो हम से जताने आ गए । आज फ़िर से आजमाने आ गए । बेडियां पैरों में... Read more
अश्क़ देने यार फिर आ गए
अश्क़ देने यार फ़िर आ गए लबों की हँसी चुराने आ गए मीठी मीठी बाते करके ज़हर पिलाने आ गए शांत बहती हुई धारा में... Read more
दिन शायराने आ गए.......
यूं लगा दिन ज़िंदगी में शायराने आ गए अब गज़ल के काफिये हम को निभाने आ गए | अब बड़े भाई को दादा कौन कहता... Read more
ख़ाक में मुझको मिलाने आ गए
जिंदगी भर जह्र पिलाने आ गये ख़ाक में मुझको मिलाने आ गये जी रहे थे हम यहाँ ओ.. बेवफ़ा क्यों हमें फिर से सताने आ... Read more