.
Skip to content

(लघुकथा) फैसला

Geetesh Dubey

Geetesh Dubey

लघु कथा

April 6, 2017

फैसला ( लघुकथा )
******
आज वह बेहद खुश दिखाई दिया, बहुत से देवस्थानों, दरगाहों मे जाकर माथा टेका है, मिठाइयाँ बाँटी है उसने….

खुशी की वजह भी कम तो नही….गत वर्षों से चल रहे मुकदमे मे आज कोर्ट का फैसला आया है….
चश्मदीद गवाहों एवं साक्ष्यों के अभाव मे बाइज्जत बरी किया गया है उसे… ..
मामला यह था कि कुछ साल पहले फुटपाथ पर सो रहे कुछ गरीब मजदूरो की मॊतं रात दो तीन बजे के लगभग किसी मोटर कार के द्वारा कुचले जाने से हुई थी ।
रात्रि मे सुनसान राह पर कोई चश्मदीद न होने व पर्याप्त धनसंपन्नता के कारण नामी वकील द्वारा केस लड़े जाने से आज बहुप्रतीक्षित परिणाम प्राप्त हुआ है ।
खुशी के माहॊल मेआज रात उनके आलीशान आवास मे कूछ शुभचिंतक मित्रों के साथ एक शानदार पार्टी का आयोजन भी है…..

गीतेश दुबे✍??

Author
Geetesh Dubey
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more