.
Skip to content

लघुकथा– अनुत्तरित प्रश्न

ओमप्रकाश क्षत्रिय

ओमप्रकाश क्षत्रिय "प्रकाश"

लघु कथा

March 31, 2017

लघुकथा– अनुत्तरित प्रश्न

टेबल लैंप के सामने पुस्तक रखते हुए पुत्र ने कहा , ” पापाजी ! सर कल यह चित्रवाला पाठ पढ़ाएंगे. आप समझा दीजिए.”

” लाओ ! यह तो बहुत सरल है. मैं समझा देता हूं.”

फिर बारीबारी से चित्र पर हाथ रखते हुए बताया, ” यह बीज है . इसे जमीन में बोया जाता है. यह अंकुरित होता है . पौधा बनता है . बड़ा होता है. पेड़ बनता है. इस में फूल आते हैं फिर फल लगते हैं.” इस तरह पापा ने पाठ समझा दिया.

पुत्र की जिज्ञासा बढ़ी, “पापाजी ! पेड़ के बीज से पेड़ पैदा होता है ?”

” हां.”

” मुर्गी अंडे देती है . उस से मुर्गी के बच्चे निकलते हैं,” उसने मासूमसा सवाल पूछा.

” हां.”

” तो पापाजी, यह बताइए कि हम कैसे पैदा होते हैं ?”

यह प्रश्न सुन कर पापाजी चकरा गए. कुछ नहीं सुझा . क्या कहूं ? क्या जवाब दूं ? कैसे जवाब दूं ?

बस दिमाग में यह प्रश्न घूम ने लगा, ” हम कैसे पैदा होते है ?”

पुत्र के सवाल ने पापाजी को बगलें झाँकने पर विवश कर दिया. पुत्र ने पापाजी को मौन देख कर अपना प्रश्न पुन: दोहराया दिया. पापाजी ने सामने बैठी पत्नी की ओर देखा और आँखों ही आँखों में उस से पूछा, “अब इस को क्या कहूँ?”

पत्नी ने भी कंधे उचका कर उत्तर दिया, “अब मैं क्या कहूँ?”
———————

Author
ओमप्रकाश क्षत्रिय
पिता- श्री केशवराम क्षत्रिय माता- श्रीमती सुशीलाबाई क्षत्रिय पेशा- सहायक शिक्षक लेखन- मूलत: बालकहानीकार, कविता, लघुकथा, हाइकू , लेख आदि का लेखन. प्रकाशन- 100 से अधिक बालकहानी प्रकाशित. 50 बालकहानियों का 8 भाषा में प्रकाशन. नंदन, चम्पक, लोटपोट, बालहंस, देवपुत्र,... Read more
Recommended Posts
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
अंदाज़ शायराना !
जैसा सम्मान हम खुद को देते है ! ठीक वैसा ही बाहर प्रतीत होता है ! जस् हमें खुद से प्रेम है ! तस् बाहर... Read more