.
Skip to content

लगन ये कैसी ?

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

March 25, 2017

” लगन ये कैसी”?
———————

लगा के मेंहदी
डाल के घूँघट !
नाची आज
मयूर के जैसी !!
लाज-शर्म
चिलमन में छुपाई ,
धुन अलबेली !
बनी ये कैसी ??
तन भी नाचे !
मन भी नाचे !
लगी हृदय में
लगन ये कैसी ??
लहराती हूँ !
“दीप-शिखा”- सी
लगती भी हूँ !
उसी के जैसी ||
——————————
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
मैं शक्ति हूँ
" मैं शक्ति हूँ " """""""""""" मैं दुर्गा हूँ , मैं काली हूँ ! मैं ममता की रखवाली हूँ !! मैं पन्ना हूँ ! मैं... Read more
बेटी का खत
आता नहीं है रोज जो ख़त जैसी बन गई मैं सब लिख दिया माँ पढ लो अब कैसी बन गई मैं। मुझको वो तेरा आंगन... Read more
कभी तनिक जो सोचूँ मैं
कभी तनिक जो सोचूँ मैं, ये जख़्म-ए-हालात कैसी है? छवि में लिपटे ये घात कैसी है? सहज अलफाज़ भी है और संभली आवाज भी आज... Read more
मुक्तक
हर तरफ लगी होड़ ,ये दौड़ कैसी है मानवी आधार भी ताख पर रखी जैसी है जीवन के सुखद पहलू भी नजर अंदाज कर हर... Read more