.
Skip to content

*** राजू धन का चौकीदार ***

Raju Gajbhiye

Raju Gajbhiye

लघु कथा

January 8, 2017

*** राजू धन का चौकीदार ***

राजू सोच रहा था इस दुनिया में सच्चा भगवान धनवान ही है | इसलिए हमेशा धन संग्रह करना है ,
मेरी तिजोरी , सोना – चाँदी , हिरे – जवाहरात से भरे रहे यही सोते – जागते सोचना, मनन करता हूं |
हमेशा मुझे कमरे के बाहर ही सोना है , खाना – पीना कमरे के बहार ही करना है , कब मेरा संग्रह
चोरी हो जाये , और न जाने क्या-क्या हो जाये दिनरात चिंता में , शंका – कुशंका इसमें ही दिन समय के
साथ चले जा रहे थे | मैं सिर्फ अपना ही चौकीदार बन कर रह रहा हूं |

एक दिन रात्रि में मुझे एक अदृश्य से आवाज़ सुनाई दी , जागते रहो , सावधान ! मैं चिंतन करने लगा |
मैं क्यों जाग रहा हूं | अपने आप पर सोचने लगा | अपने आप पर ही हँसने लगा |

मेरे अंदर अज्ञान है , विवेक की कमी है मुझे समझ आया और मेरी चेतना जागृत हुयी | मैंने तुरंत
सुबह अच्छे भाव से , अच्छे विचारो से तिजोरी से रखा सोना – चाँदी , धन का दान व ऊपयोग करने
का मन किया और देना शुरू किया | अब मुझे हर रात-दिन चौकीदार बन कर नहीं रहना पड़ रहा था ,
चिंता मुक्त हो गया था | मेरा स्वास्थ्य भी सुधर गया था | मैं अपने विवेक से सदा दान व उपयोग
करने लगा हूं | अब मुझे जानकारी हुयी धन का चौकीदार नहीं बनना , धन ही मेरा चौकीदार बने
रहे |
– राजू गजभिये
दर्शना मार्गदर्शन केंद्र , बदनावर जिला धार (मध्य प्रदेश)

Author
Raju Gajbhiye
परिचय - मैं राजू गजभिये , मूलतः यवतमाल ( महाराष्ट्र) मातृभाषा मराठी , वर्तमान में बदनावर जिला धार (मध्य प्रदेश ) कश्यप स्वीटनर्स लिमिटेड में कार्यरत | किताबे पढना एव लेखन | अपितु लिखने का शौक है | व्यग ,... Read more
Recommended Posts
फोन हानिकारक
घर की घंटी बजती है । माँ दरवाजा खोलती है । राजू - माँ आज बहुत भूख लगी है मुझे खाना दे दो स्कूल से... Read more
*स्वास्थ्य धन*
**स्वास्थ्य धन** * स्वास्थ्य यानी तन-और मन दोनों की सुदृणता * जहाँ *शारीरिक स्वास्थ्य के लिये पौष्टिक आहार ,व्यायाम ,योगा लाभदायक है। वैसे ही मन... Read more
**** ईश्वर का उपहार ****
**** ईश्वर का उपहार **** राजू सुबह उठते ही गरम पानी नहाने हेतु चूले पर रख दिया | फिर बाथरूम में आकर नित्य कार्य करने... Read more
*** बेटियाँ ***
*** बेटियाँ *** लड़की का जन्म होता है सन्नाटा छा गया , ख़त्म धन-दौलत ना चेहरे पे मुस्कुराहट क्या-क्या सोचते पूर्वाभास असहनीय पीड़ा को रखा... Read more