.
Skip to content

योजना है

अमरेश गौतम

अमरेश गौतम

गीत

July 17, 2016

सुनो एक योजना है।

  जब तलक पूरी न होगी,
  इस जहाँ में जिद हमारी।
  जुबाँ पर फरियाद होगी,
  अवज्ञाएँ फिर हमारी।
  जब तलक ना वक्त साथी,
  दुख तो यूँ ही भोगना है।
  सुनो……….

                                 लालसा कुछ छोड़ दें, 
                                 संशय की गागर फोड़ दें।
                                ओज मन में संचरित कर,
                                भ्रमित मन झकझोर दें।
                               दो कदम हर रोज़ चलकर,
                               लक्ष्य को ही सोचना है।
                               सुनो……….

  इन खगों से सीख लें,
  गगन में उनमुक्त उड़ना।
  तिनका-तिनका जोड़कर,
  नीड़ सा सपनों को बुनना।
  अब नहीं रुकेंगे थककर,
  अब यही परियोजना है।
  सुनो………….

Author
अमरेश गौतम
कवि/पात्रोपाधि अभियन्ता
Recommended Posts
हिन्‍दी सबको प्‍यारी होगी
हिन्‍दी सबको प्‍यारी होगी। इसकी छवि उजियारी होगी। ना कोई लाचारी होगी। अब न यह बेचारी होगी। ना कोई रँगदारी होगी। मर्दुमरायशुमारी होगी। खड़ी फौज... Read more
कब तलक बोल सनम सूनी ये क्यारी होगी
मेरी मां सारे जमाने से भी प्यारी होगी जिंदगी जिसने हमारी ये संवारी होगी ?? आया है जो भी यहां उसको है जाना इक दिन... Read more
जिन्दगी जिसने हमारी ये सँवारी होगी
उड़ान मेरी मां सारे जमाने से भी प्यारी होगी जिंदगी जिसने हमारी ये संवारी होगी ?? आया है जो भी यहां उसको है जाना इक... Read more
आखिरी दम तलक नहीं बुझती
आखिरी दम तलक नहीं बुझती हवस मेरी सुलह नहीं करती जब से जन्मा हूँ बटोरता ही रहा संग्रह की प्रवृति नहीं मिटती अगली पीढ़ी नकारा... Read more