.
Skip to content

यूँ हटाये हैं घिरे दिल के अँधेरे हमने

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

गज़ल/गीतिका

February 12, 2017

यूँ हटाये हैं घिरे दिल के अँधेरे हमने
दीप अश्कों से भरे और जलाये हमने

मुस्कुराते रहे भीगी हुई पलकों में भी
जख्म लेकिन नहीं इस दिल के दिखाये हमने

हम सितम सहते रहे सारे तुम्हारे हँस कर
पर कभी की न शिकायत कोई तुमसे हमने

बनके परछाई रहे ऐसी तुम्हारी हम तो
दर्द भी तेरे इन आंखों से बहाये हमने

बोलना झूठ नहीं आता था पहले हमको
सीखे तुमसे ही बनाने भी बहाने हमने

बात दिल में दबी रहती तभी बस अच्छा था
‘अर्चना’ कह के तो अफ़साने बनाये हमने

डॉ अर्चना गुप्ता

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
रँग यहाँ अपना जमाया है बहुत दिन हमने
रँग यहाँ अपना जमाया है बहुत दिन हमने राज अपना भी चलाया है बहुत दिन हमने जश्न खुशियों का मना लेने दो कुछ पल हमको... Read more
कविता : ??सीखा हमने??
मौसम की तरह बदलना नहीं सीखा हमने। सबसे गले मिलते हैं जलना नहीं सीखा हमने।। सफलता पर दुश्मन को भी दाद दी खुशी से। मुँह... Read more
जिंदगी नही मौत गले लगा ली हमने
जिंदगी नही मौत गले लगा ली हमने वो पास आये नही,खुद को सजा दी हमने इंतज़ार करते रहे मरते दम तक उनके इन्तजार में ही... Read more
कुछ पल मुस्कुराये होते
तुम अगर मेरी जिंदगी में आये होते तो हम भी कुछ पल मुस्कुराये होते !! न रहते जिंदगी में तुम भी यूँ तन्हा न अकेले... Read more