Skip to content

मैं जाग चुकी हूँ

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

April 2, 2017

” मैं जाग चुकी हूँ ”
————————-

हाँ मैं नारी हूँ !
सदियों से ही….
और सदियों तक भी !
अपनाया है मैंने !
सृजनशीलता को
ताकि सृजना बनकर
सतत् सृजन करूँ !!
किया भी है……
करती भी हूँ !
तभी कहलाती हूँ !
युग-सृष्टा ||
अपनाया है मैंनें !
ममता को
ताकि वात्सल्य की
वृष्टि करूँ !!
दे दूँ इतना हमेशा
कि सदा-सर्वदा
कर्मठता !
कर्तव्यपरायणता !
नैतिकता !
रचनाधर्मिता !
को राष्ट्र-निर्माण में
समर्पित कर सकूँ ||
अपनाया है मैंने !
सूक्ष्म दृष्टि को
ताकि देख सकूँ !
नित्य विकास !
परम्परा !
संस्कार !
संस्कृति !
और राष्ट्र की
एकता-अखण्डता को !
ताकि बनी रहूँ मैं !
युग-दृष्टा ||
अपनाया है मैंने !
सक्षमता को
ताकि कर सकूँ !
सक्षम और सुदृढ……
खुद को !
नर को !
और देश को !
न हो विचलित नर
न ही राष्ट्र खंडित !
तभी बनी हूँ मैं !
स्वयं-सिद्धा ||
अपनाई है मैंने !
निष्ठा और सहिष्णुता !
ताकि बना रहे
मेरे देश में…….
साम्प्रदायिक सोहार्द्र !
और बनूँ मैं !
राष्ट्र-निर्माण की
आधारशिला ||
अपनाया है मैंने !
संकल्प की स्वतंत्रता को
ताकि ले सकूँ !
स्वतंत्र निर्णय
राष्ट्र-निर्माण में !
और बनूँ मैं !
राष्ट्र-हित का
हेतु ||
अपनाया है मैंने !
मेहनत को !
ताकि उपजा सकूँ !
खेतों में अन्न !
साथ ही पालती हूँ
मवेशियों को !
ताकि विकसित हो
राष्ट्र की अर्थव्यवस्था !
और मिटाती हूँ भूख
जन-जन के पेट की
और कहलाती हूँ !
अन्नपूर्णा ||
अपनाया है मैंने !
कुशलता को !
ताकि दिखा सकूँ
अपने कौशल को
और जड़ दूँ मैं !
रत्नों की भाँति
राष्ट्र-निर्माण के मोती
और कहलाऊँ !
मैं सदा-सदा ही
कौशल्या ||
अपनाया है मैंनें !
दक्षता को !!!
ताकि हर क्षेत्र में
लहराऊँ !
विजय-पताका को
और कहलाऊँ !
दक्षिता ||
मैं बनी हूँ ……..
लक्ष्मीबाई !
हाड़ी !
और पन्ना |
ताकि रख सकूँ !
मैं मान
मर्यादा का !
कर्तव्य का !
ईमान का !
और कहलाऊँ !
मानसी ||
अपनाया है मैनें !
तत्परता को !
ताकि हर क्षेत्र में
तत्पर रहूँ
और उपस्थित भी !
ताकि नव-निर्माण हो
सतत् और उज्ज्वल |
तभी तो कहलाती हूँ !
उज्ज्वला ||
अपनाया है मैंने !
प्रेरक शक्ति को
और बनी हूँ !
सदियों से ही…..
पुरूष की प्रेरणा !
तभी तो कहलाती हूँ !
प्रेरणा ||
पहुँच चुकी हूँ मैं !
सागर-तल और
अंतरिक्ष तक !
नहीं रूकना है अब
बीच राह में मुझे !
बस ! चलते जाना है
राष्ट्र-निर्माण की ओर
तभी तो दिल खोलकर
कहती हूँ !!!!!!!
कुछ तुच्छ मानसिकता
के तलबगारों को……
कि — नहीं बनना है !!
मुझे फिर से ?
मात्र भोग्या !
अबला !
डावरिया !
देवदासी !
और विषकन्या !!!!!!!
क्यों कि मैं जाग चुकी हूँ !
राष्ट्र-निर्माण…………
और विकास के लिए ||
———————————
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
मैं शक्ति हूँ
" मैं शक्ति हूँ " """""""""""" मैं दुर्गा हूँ , मैं काली हूँ ! मैं ममता की रखवाली हूँ !! मैं पन्ना हूँ ! मैं... Read more
राष्ट्र निर्माता
गरिमामयी पद पर हैं दाग,आहत हूँ मैं राष्ट्र निर्माता हूँ या आत्मघातक हूँ मैं चिन्तन का है विषय,आत्ममंथन कर लूँ खलनायक नहीं,राष्ट्र नायक हूँ मैं... Read more
लम्हा...
लम्हा.... न ज़िस्म रखता हूँ मैं न पर रखता हूँ ...मैं कहाँ कभी दिल में ज़ह्र रखता हूँ .....एक नन्हा सा लम्हा हूँ वक्त का... Read more
मैं बारिश की बूँद हूँ , मेघों से बिछड़ कर, बिखर जाती हूँ , गगन से दूर धरती पर छा जाती हूँ किसी की तपन... Read more