.
Skip to content

मैं चंचल हूँ मेघों के पार से आया करता हूँ ।

drpraveen srivastava

drpraveen srivastava

कविता

October 10, 2017

मैं चंचल हूँ, मेघों के पार से आया करता हूँ

मैं चंचल हूँ , मेघों के पार से आया करता हूँ ।
मै अग्नि हूँ , धरा को भूषित-भष्मित करता हूँ ।
मैं किरण हूँ ,रश्मि रथी केे पथ को आलोकित करता हूँ ।
मैं प्यास बनकर, जीवन को पल-पल तरसाया करता हॅू।
भूख बनकर, जीवन को पल-पल तड़पाया करता हॅू।
मैं सृष्टा हूँ , जीवन की रचना करता हॅू।
मैं काल बनकर, विनास की लीला करता हॅू।
मैं प्रलय हूँ , धरा को जल से आप्लावित करता हॅू।
मैं पथिक भी हूँ , जीवन पथ की राह निहारा करता हूँ ।
मैं रश्मि किरण हूँ , ताप रहित संताप मिटाया करता हॅू।
मैं किरण हूँ ,रश्मि रथी केे पथ को अलोकित करता हूँ ।
ग् ग् ग् ग् ग्

प्रवीण कुमार

Author
Recommended Posts
मैं शक्ति हूँ
" मैं शक्ति हूँ " """""""""""" मैं दुर्गा हूँ , मैं काली हूँ ! मैं ममता की रखवाली हूँ !! मैं पन्ना हूँ ! मैं... Read more
विरहणी
अक्षर अक्षर नाम तुम्हारे करती हूँ.. जब मैं इस जीवन के पन्ने भरती हूँ.. ~~~~~~~~~~~~~~~ कलियां हों या हों कंटक इन राहों में... बाधाओं से... Read more
मैं बेटी हूँ
???? मैं बेटी हूँ..... मैं गुड़िया मिट्टी की हूँ। खामोश सदा मैं रहती हूँ। मैं बेटी हूँ..... मैं धरती माँ की बेटी हूँ। निःश्वास साँस... Read more
मैं संस्कार हूँ
मैं संस्कार हूँ, धर्म अधर्म समाहित मुझमें मैं ज्ञान रुपी भंडार हूँ । मैं संस्कार हूँ।। पाप पूण्य श्री गणेश हमीं से मैं जीवन तत्व... Read more