.
Skip to content

मेरी बिटिया बड़ी नाजो से पली

सविता मिश्रा

सविता मिश्रा

कविता

January 24, 2017

मेरी बिटिया बड़ी नाजो से है पली
इतने लोगों की रसोई उससे कैसे बनी।|

सास-ननद चलाती हैं हुक्म दिनभर
बिटिया तू क्यों रहती है यूँ सहकर
करती नहीं ननद जरा सा भी काम
भाभी को वह समझती है एक गुलाम।
मेरी बिटिया बड़ी नाजो से है पली
संयुक्त परिवार में उसकी कैसे निभी।।

दिन-दिन भर वह खटती रहती
दर्द सहकर भी कभी कुछ न कहती
हाथ नाज़ुक हो गए उसके कितने ख़राब
पैरों की बिवाई वह छुपाती पहन जुराब |
मेरी बिटिया फूलों सी कोमल बड़ी
सूख के देखो कैसे अब कांटा हुई ||

रिश्तों की बांधे हाथों में हथकड़ी
हर काम को फिर भी तत्पर खड़ी
खेलने-खाने की उम्र में ब्याही गयी
ससुराल में कभी भी न सराही गयी
चैन से जीना वहां उसका हुआ हराम
क्या मज़ाल कि पल भर को मिले आराम।
मेरी बिटिया बड़ी नाजो से है पली
हर क्षण दिखे खिलखिलाती ही भली ||

कभी चेहरे पर उसके कोई भी सिकन न दिखी
विधना ने न जाने उसकी कैसी तक़दीर लिखी।।

मेरी बिटिया बड़े ही नाजो से पली
दिल देखो जीतने सबका वह चली …।।

Author
सविता मिश्रा
हम सविता मिश्रा दूसरों के दर्द को भी अपना समझते है, महसूस करते है| शायद इसी लिए दर्द पर ही ज्यादा लिखते है | हम कोई कवियत्री नहीं है बस मन में जो भाव उठापटक कर परेशान करते है उन्हें... Read more
Recommended Posts
इंसानियत से इंसान पैदा होते है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी फिदरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का मुख खुला ! मनका भी हूँ... धागा... Read more
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
मै भी भीग जाऊँ!!
मैं भी भीग जाऊँ। ........................ सोचता हूँ एकबार मैं भी भीग जाऊँ। इस बरसात प्रिय के साथ घनी जुल्फों की छाव में प्रियतम की बाहों... Read more