Skip to content

ममता का परिचय- यूँ एक बसर हुई

शक्ति राव मणि

शक्ति राव मणि

कविता

August 10, 2017

यूँ एक बसर हुई
तेरे आने से जिंदगी असर हुई

हमको थी पहले से खबर
पर खबर होने के बाद खबर हुई

महीनो का सफर दर्द मे रहा
दर्द तब मुस्कान हुई

जब आँखे बेकरार हुई
आँखे तब बेकरार हुई

जब तुम नन्ही जान हुई
अब तुमसे मोहब्बत हुई

मोहब्बत इस कदर के हद पार हुई
ओर हद पार हुई

जब तुम्हारी मुस्कान मे छिपी
मेरी भी एक जान हुई

तुम्हे पा लिया है,मेरी जिंदगी अमर हुई

हमे खबर होने के बाद तब जाके खबर हुई

यूँ एक बसर हुई
तेरे आने से जिंदगी असर हुई..

श.र.म.

Author
शक्ति राव मणि
नाम:- शक्ति राव
Recommended Posts
"सरेआम मोहब्बत हैं तुझसे मुझे " (मुक्तक) बाखुदा मोहब्बत हैं तुझसे मुझे। बेपनाँ मोहब्बत हैं तुझसे मुझे। मोहब्बत को मेरी यूँ मापा न कर। बेइंतहा... Read more
दर्द निस्बत मुझे कुछ खास हो गयी है
जो भी ख़लिश थी दिल में एहसास हो गयी है दर्द निस्बत मुझे कुछ खास हो गयी है वजूद हर ख़ुशी का ग़म से है... Read more
मेरी कहानियाँ कुछ यूँ ही
मेरी कहानियाँ कुछ यूँ ही बहती निशानियाँ शब्दों में खुशियाँ भी हैं इनमे तो तोड़ा ग़म भी है आती है हँसी कुछ चेहरो पर इनसे... Read more
सबब-ए-जिंदगी
मेरी तन्हाइयो का सबब बन रही है जिंदगी, कुछ ख़बर नहीं क्या बन रही है जिंदगी, बदहाली है न मायूसी है कोई, फिर भी बोझ... Read more