.
Skip to content

मन : हाइकु

प्रदीप कुमार दाश

प्रदीप कुमार दाश "दीपक"

हाइकु

September 19, 2017

प्रदीप कुमार दाश “दीपक”

मन : हाइकु

01. महका मन
हाइकु की सुगंध
बाँचे पवन ।

02. मन फकीर
चित्रोत्पला के तीर
रे ! क्यों अधीर ?

03. प्रथम वर्षा
सौंधी महकी धरा
मन हर्षाया ।

04. बूँदें बरसीं
तन व मन गीले
प्रीत जगातीं ।

05. मन गुलाब
झुलसाती धूप ने
जलाए ख्वाब ।

06. मन रावण
वासना की कुटिया
सिया हरण ।

07. मन बहके
फूटी स्वप्न कलियाँ
टेसू महके ।

08. मन उल्लास
बौराया है फागुन
गा उठा फाग ।

09. प्रेम का रंग
लग हर्षाया तन
फगवा मन ।

10. होली के रंग
प्रेम से पगे मन
होली उमंग ।

11. तेरी छुवन
मन बगर गया
मानो बसंत ।

12. पंछी का मन
कँपकँपाता हिम
स्तब्ध जीवन ।

13. मन की धुन
बचपन की बात
ले डाली सुन ।

14. मीरा का मन
अनुराग से पगा
कनु का संग ।

15. पूष की रात
हल्कू जाएगा खेत
मन उदास ।

16. होरी का मन
गोबर औ धनिया
रहें प्रसन्न ।

17. गेहूँ की बालि
झूमती गीत गाती
मन हर्षाती ।

18. फुली सरसों
पियराने लगे हैं
मन के खेत ।

19. दीप जलते
रोशन कर जाते
मन हमारे ।

20. घना अंधेरा
दीप जलता रहा
मन अकेला ।

21. पत्ते झरते
ईश्वर की शरण में
मन रमाते ।

22. माटी का तन
तप कर निखरा
कंचन मन ।

23. घर थे कच्चे
तब की बात और
मन थे सच्चे ।

24. मन के भेद
मिटाएँ तो मिटेंगे
मत के भेद ।

25. मयारु मन
लोक गीत चंदन
माटी वंदन ।

26. बाँसों के वन
रिलो में झूम उठे
लोगों के मन ।

27. मन क्या जुड़े
जुड़ गये दिल भी
हृदय जुड़े ।

28. घुँगरु बना
नाचता रहा मन
छन.. छनाया ।

29. आदमी-पंक्ति
मन एक हाइकु
छंद प्रकृति ।

30. धूप को धुने
मन मानो बादल
गुन गुनाए ।

31. काँच सा मन
ह.ह. तोड़ ही दिया
धूप निर्मम ।

32. तनहा मन
प्रकृति की गोद में
हुआ सानंद ।

33. टूटी पत्तियाँ
कैसे संभले मन
रूठी डालियाँ ।

34. मन व्यथित
भाव निर्झर हुए
निकली पीर ।

35. भव सरिता
मन बना नाविक
खे रहा नाव ।

36. मृग नादान
कस्तूरी की तलाश
गँवाया प्राण ।

□ प्रदीप कुमार दाश “दीपक”
साहित्य प्रसार केन्द्र साँकरा
जिला – रायगढ़ (छत्तीसगढ़)
   मो.नं. 7828104111

Author
प्रदीप कुमार दाश
हाइकुकार : ♢ प्रदीप कुमार दाश "दीपक" ♢ सम्प्रति : हिन्दी व्याख्याता 13 कृतियाँ : -- मइनसे के पीरा, हाइकु चतुष्क, संवेदनाओं के पदचिह्न, रुढ़ियों का आकाश, हाइकु वाटिका, हाइकु सप्तक, हाइकु मञ्जूषा, झाँकता चाँद, प्रकृति की गोद में, ताँका... Read more
Recommended Posts
ये मोक्ष धाम
विधा - हाइकु सुंदर मन। हरे भरे है वन। स्वस्थ जीवन।। भौतिक सुख। सब जी का जंजाल। मोह अंजान।। मन मोहिनी। चंचल चितवन। ये मोह... Read more
मन
मन से मन के दीप जला लो मन से मन को फिर महका लो मन से मन का मेल जो होगा हो जायेगा जग उजियारा..... Read more
हाइकु : जर्जर काया
हाइकु जर्जर काया, इच्छाएँ खंडहर, जीने को मरे नम नयन, गालों के सूखे आँसू, पुकारें तुम्हें ! छायी बदरी, व्याकुल फिर मन, गीला तकिया !... Read more
हाइकु
हाइकु जन बगीचा फूलों बना गलीचा मन है रीता 2 न कटी नाक नकटे की थी बात नेताई ठाठ 3 मंत्री था बाप बेटा कराता... Read more