.
Skip to content

मंगलमय पुकार करूँ

राष्ट्रकवि आलोक पान्डेय

राष्ट्रकवि आलोक पान्डेय

कविता

January 15, 2017

यदि जीवित रहूँ माते, तेरा ही श्रृंगार करूँ
अर्पण करूँ सर्वस्व तूझे, हर त्याग से सत्कार करूँ;
हो त्याग ऐसा वीरों सी, कलुषित विविध विकार हरूँ
पुष्पित – पल्लवित कर दूँ पुण्य धरा को, मंगलमय पुकार करूँ !
निश्चय आज प्रबुद्ध जन मौन, कैसे सत्य विचार धरूँ
वनिताओं- वृद्धों को निर्भय कर दूँ , प्रयत्न पूर्ण प्रकार करूँ
हर व्यथा- कथा मिटती रहे, महात्माओं का आभार करूँ
पुष्पित- पल्लवित कर दूँ पुण्य धरा को, मंगलमय पुकार करूँ !
समरसता अब खो चुकी , न्याय – धर्म की धार धरूँ
ज्ञान- विज्ञान में पहुँच रहे, सदा रक्षा में बारंबार मरूँ
धरणी को सींचित कर श्रुति स्नेह से, सुंदरतम् व्यवहार करूँ
पुष्पित- पल्लवित कर दूँ पुण्य धरा को, मंगलमय पुकार करूँ !
अरि बहु दीखते आज मही पर, त्वरित तार- तार करूँ
प्रखर तेज द्विजों का दीप्त , सत्कर्मों का सारा सार धरूँ
जन तप्त हुए अत्यधिक द्रोह से, द्रोहियों का भाग्य क्षार करूँ;
पुष्पित-पल्लवित कर दूँ पुण्य धरा को, मंगलमय पुकार करूँ !

अखण्ड भारत अमर रहे !
वन्दे मातरम् !
जय हिन्द !

©

कवि आलोक पान्डेय

Author
राष्ट्रकवि आलोक पान्डेय
एक राष्ट्रवादी व्यक्तित्व कवि, लेखक , वैज्ञानिक , दार्शनिक, पर्यावरणविद् एवं पुरातन संस्कृति के संवाहक.....संरक्षक...
Recommended Posts
फिर ख्याल आए तेरा तो मैं क्या करूँ !
फिर ख्याल आए तेरा तो मैं क्या करूँ ! हमने चाहा यही हम न चाहें तुम्हें, फिर ख्याल आए तेरा तो मैं क्या करूँ !... Read more
मुक्तक
कबतलक तेरा इंतजार मैं करूँ? दर्द की नुमाइश हर बार मैं करूँ? खौफ है कायम बेरुखी का तेरी, कबतलक खुद को बेकरार मैं करूँ? मुक्तककार-... Read more
(मैं क्या करूँ
बेसबब मुस्कुराए तो मैं क्या करूँ। हुस्न मुझ पर लुटाए तो मैं क्या करूँ। मैने रोपी तो कलियाँ वफ़ाओं की थीं, ख़ार ही उग जो... Read more
ग़ज़ल /गीतिका
इस जीस्त से निराश हूँ मैं, यार क्या करूँ कुछ भी तो सूझता है नहीं, प्यार क्या करूँ | हमको निभाना प्यार तो, इकरार क्या... Read more