Skip to content

भोला बचपन

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

March 27, 2017

” भोला बचपन ”
———————

खेल रहा है…..
भोला बचपन !
सागर के एहसासों से |
निर्मित करते
एक घरौंदा !
अपने कोमल हाथों से |
उम्र है छोटी
सोच बड़ी हैं !
लगता इनकी बातों से |
लेकर कर में
सौंधी मिट्टी !
जोड़ रहे ख्यालातों से |
——————————–
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
बचपन
विश्वास भरे कदमों की आहट है "बचपन" जिज्ञासा भरी सोच का नाम है "बचपन" निश्वार्थ, निर्मल मन की उत्तम परिभाषा है "बचपन" छल, द्वेष, दम्भ,... Read more
भोला बचपन
सुनो, क्या आपने पहचाना मुझे? अरे भाई! मैं हूं भोला-मस्तमोला बचपन। खेल रहा है भोला बचपन,रोज नए अहसासों से, मन में उमंग भरने वाले, शरारती... Read more
गौरा-गौरा बोलिये, भोला दौड़े आय।
???? गौरा-गौरा बोलिये,भोला दौड़े आय। गौरा को सुमरिये,भोला होगे सहाय। गौरा पूजन जो करे,सुहागन के वर पाय। गौरा के सुमिरन करे,भवसागर तर जाय। बिन गौरा... Read more
बाल दिवस
1 बच्चे ही हैं देश की,उन्नति के आधार चाचा नेहरू का करें,स्वप्न सभी साकार स्वप्न सभी साकार,बचायें इनका बचपन इन्हें पढ़ाकर खूब,सँवारे इनका जीवन रहे'अर्चना'याद,बड़े... Read more