.
Skip to content

बेवफा

अतुल कुमार राय

अतुल कुमार राय

गज़ल/गीतिका

December 5, 2016

इश्क के दरिया मे/डुबोया हूँ खुद को खुद ही,

तन्हाई मे भी रो सकूँ/मिले ऐसे हालात नही!

थी वफा जब तक/खुद को जुगनू ही समझा किए

अना की जंग मे/मयस्सर अब रात नही!

खुदा बख्श उस/नासमझ की नादानी को,

जीने का सबब छीन लिया/और कहती ‘कोई बात नही’!

ज़फा की थी गर हमने तो सिर्फ बेवफा कह देते,

मर जाते खुद/आते तेरे सर /कत्ल-ए-इल्जामात नहीं।

तब इबादत थी मोहब्बत/अब कबूल तन्हाई भी है,

क्योंकि/कांटे किया करते फूलों से/कोई सवालात नहीं!

Author
अतुल कुमार राय
"तू हँसी अधर रुख़सार का तिल,मैं थके नयन का लोर प्रिये।" ग्राम+पोस्ट-मुर्तजीपुर जिला-गाजीपुर(उ.प्र.) संपर्क सूत्र-मो.नं.-९४५२०७५००७
Recommended Posts
बेशकीमती केवल सोना नही है ।
खुद को भीड मे खोना नही है हमको दुख अब ढोना नही है मिलता है मेहनत से सबकुछ न मिले इच्छित तो रोना नही है।... Read more
ग़ज़ल।तुम्हारे प्यार की दुनिया दिवानी अब नही होती ।
ग़ज़ल।तुम्हारे प्यार क़ी दुनिया दिवानी अब नही होती। अधूरे रह गये किस्से कहानी अब नही होती । तुम्हारे प्यार की दुनिया दिवानी अब नही होती... Read more
खुद की तलाश.....
जो चाहा कभी वो हासिल हुआ ही नही इस सबब मैंने कुछ भी चाहा ही नही, रूदादे सफर अब लिखें भी तो क्या खुद की... Read more
?मुझे तन्हाई पसंद है ?ग़ज़ल
मैं तन्हा हूँ मुझे तन्हाई पसंद है अब न तेरी मुझे बेवफाई पसंद है तुमसे वफ़ा कर मिला ग़म की सिला अब न ज़िंदगी को... Read more