.
Skip to content

बेटियां

रीना देवी पटेल

रीना देवी पटेल

कविता

January 16, 2017

सृष्टि में मानव जीवन का आधार बेटियां हैं।
मां बेटी बहन रूप में रब का उपहार बेटियां हैं।
मां बाप अतिथियों का करती सत्कार बेटियां हैं।
हाथ बटाती कामों में मददगार बेटियां हैं।
ममता लाड दुलार लुटाती प्यार बेटियां हैं।
कथा आरती पूजा व्रत करती साकार बेटियां हैं।
संस्कृति रीति रिवाज रखतीं बरकरार बेटियां हैं।
त्याग क्षमा दया धैर्य का आगार बेटियां हैं।
ईद दीवाली होली करती गुलजार बेटियां हैं।
गुड़िया राखी द्विज मनाती त्योहार बेटियां हैं।
सच कहूं तो इस धरती में संसार बेटियां हैं।
फिर भी सबको लगतीं गुनहगार बेटियां हैं।
क्यों नहीं समझते बेटों की तरह हकदार बेटियां हैं।

Author
रीना देवी पटेल
रीना देवी
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
निकलता है
सुन, हृदय हुआ जाता है मृत्यु शैय्या, नित स्वप्न का दम निकलता है। रोज़ ही मरते जाते हैं मेरे एहसास, अश्क बनकर के ग़म निकलता... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more