.
Skip to content

बहते काजल !

Satyendra kumar Upadhyay

Satyendra kumar Upadhyay

कहानी

April 23, 2017

वह तो बस हुचुर-हुचुर ! रोये जा रही और ऑसूं थे जो सुन्दर-2 ऑखों में लगे काजल को साथ लिए जा रहे लाल हुए गालों की ओर बहते हुए काले किए जा रहे थे ! साॅसें कम और अश्रुधार ज्यादा ! सुधा जो आज भूल गयी थी काजल पोंछना वह भी स्कूल से घर पॅहुचने के पहले !
पिताजी द्वारा प्रतिदिन दिए दस पैसों को इकट्ठा कर तीन महीने के बाद अपनी बचपनी व प्राकृतिक श्रंगार की ओर रूझान जो हो चला था और सौतेली माॅ के डर से वह इसे अपनी सहेली के घर रखती व स्कूल जाते समय लगाती और घर पँहुचने के पहले पोंछ देती थी ।
लेकिन आज भूल गयी थी काजल मिटाना ! तो उसकी सौतेली माॅ ने उसकी छोटी सी दबी , डरी व सहमी सी एकमात्र इच्छा को भी उसके गालों को लाल करते हुए सदा के लिए ऑसुओं में बहा दिया था । पिताजी सबसुन सिर्फ चुप थे पर उनके ऑसूं तो बह जरूर रहे थे पर अंदर की ओर ।

Author
Satyendra kumar Upadhyay
short story writer.
Recommended Posts
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 मदयुक्त भ्रमर के गुंजन सी, करती हो भ्रमण मेरे उर पर। स्नेह भरी लतिका लगती , पड़ जाती दृष्टि जभी तुम पर।। अवयव की... Read more