.
Skip to content

प्रेम जीवन धन गया

बृजेश कुमार नायक

बृजेश कुमार नायक

मुक्तक

March 3, 2017

बुढ़ापा अनुभव से सीखा, हँसा ज्ञानी बन गया |
नहीं समझा, भ्रमित हो, माया में निश्चय सन गया |
सीख लेते वही जन ,नायक बनें “नायक बृजेश”|
जो न सँभले,दुख में डूबे, प्रेम जीवन धन गया |

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

Author
बृजेश कुमार नायक
एम ए हिंदी, साहित्यरतन, पालीटेक्निक डिप्लोमा जन्मतिथि-08-05-1961 प्रकाशित कृतियाँ-"जागा हिंदुस्तान चाहिए" एवं "क्रौंच सुऋषि आलोक" साक्षात्कार,युद्धरतआमआदमी सहित देश की कई प्रतिष्ठित पत्र- पत्रिकाओ मे रचनाएं प्रकाशित अनेक सम्मानों एवं उपाधियों से अलंकृत आकाशवाणी से काव्यपाठ प्रसारित, जन्म स्थान-कैथेरी,जालौन निवास-सुभाष नगर,... Read more
Recommended Posts
ज्ञान /प्रेम
बाँँटे ज्ञान "बृजेश" नित, बन अशोक जयमाल | कमियों पर चिंतन करे दिव्य पुरुष की चाल || आत्मा ही परब्रह्म है गूढ-सु ज्ञान बृजेश |... Read more
कवि /मुस्कुराहट लिख दे, निद्रित प्राण  पर
कवि वही जो चलता सत् किरपान पर | प्रेम वन छा जाए द्वंदी बाण पर | जागरण दे राष्ट्र को 'नायक बृजेश '| मुस्कुराहट लिख... Read more
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
मर न जगमय मौत,हँस गह अमऱता का ज्ञान कन | जूझ मत, यह जिंदगी, सचमुच सजग आनंद पन | मुसकराना सीखकर भय मुक्त बन, लेकिन... Read more
1-साहित्यकार बृजेश कुमार नायक का जीवन परिचय2-
(1) कोंच, जिला-जालौन उत्तर प्रदेश के बृजेश कुमार नायक साहित्य की लगभग सभी विधाओं के रचनाकार हैं| 8 मई 1961 को ग्राम कैथेरी, जिला जालौन,उत्तर... Read more