.
Skip to content

प्रकृति

arti lohani

arti lohani

हाइकु

August 15, 2017

शिखरिणी छंद ।

सघन वन ।
खोते अस्तित्व ।
भीगे नयन ।।

कैसे हो वर्षा ।
खत्म होते पेड़ ।
मन तरसा ।।

हमें है लोभ ।
तभी तो काटे वृक्ष ।
नहीं है शोक ।।

न छेड़ मुझे ।
प्रकृति हूँ,जीवन ।
देती हूँ तुझे ।।

पूछती नानी ।
पानी कहाँ से आये ।
सूखी हिमानी ।।

आरती लोहनी

Author
arti lohani
Recommended Posts
मैं शक्ति हूँ
" मैं शक्ति हूँ " """""""""""" मैं दुर्गा हूँ , मैं काली हूँ ! मैं ममता की रखवाली हूँ !! मैं पन्ना हूँ ! मैं... Read more
प्रकृति
शिखरिणी छंद । सघन वन । खोते अस्तित्व । भीगे नयन ।। कैसे हो वर्षा । खत्म होते पेड़ । मन तरसा ।। हमें है... Read more
आपदा
कहर ! प्रकृति का या मानव का प्रकृति पर ? कौन निश्चित करेगा ? कौन मरेगा , कौन बचेगा ..? पर्वत खोद कर बेच डाले... Read more
मैं पुष्प बनना चाहता हूँ, मैं प्रकृति के रंगों में रंगना चाहता हूँ , सौन्दर्य का प्रतीक बनकर मैं अपनी सुन्दरता बिखेरना चाहता हूँ ,... Read more