.
Skip to content

पुरूष हूँ !

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

April 26, 2017

पुरूष हूँ !
—————

पुरूष हूँ !
कोई पत्थर तो नहीं !
मुझमें भी है …
एहसास !
निर्मलता !
और मानवता |
सदियों से ही
कहते आए हैं
कि समाज…….
पुरूष प्रधान है !
लेकिन क्या ?
देखा भी है —
झाँककर कभी
उसके अंतस में |
कितना कुछ है….
उसके भीतर —
धैर्य !
विश्वास !
कर्मठता !
लगन !
मेहनत !
जिम्मेदारी !
सहनशीलता !
कर्तव्यपरायणता !
इत्यादि-इत्यादि ||
कौन कहता है ?
मर्द को दर्द नहीं होता !
होता है………..
दर्द भी और संताप भी !
जब खेला जाता है
उसके दिल से
छुप-छुप कर !
कहते हैं ………
दिल नहीं पत्थर है !
नर के सीने में |
किसने देखा ?
कब देखा ?
कहाँ देखा ?
क्यों देखा ?
आखिर कोई तो बताए ??
पूर्ण करता है पुरूष भी
अपनी हर जिम्मेदारी
इत्तमिनान से……….
बिना कुछ उफ किए !
सहता भी है !
पर ! कहता नहीं |
बस ! जीता है
अपनों के लिए…..
हाथ बंटाता है निकेत-कर्म में
सदैव चुपके-चुपके !
पर वो दिखता नहीं
सार्वजनिक तौर पर !
क्यों कि ?
वह करता है…….
तन-मन-धन से ||
जब भी घटित होते हैं
अमानवीय और नृशंस कुकृत्य
सारा पुरूष-वर्ग ही दोषी बनता है |
मानता हूँ …………….
कुछ नीच-अधम-पापी हैं
हमारे बीच में ,
जो कलुषित करते हैं
पुरूष और मानवता को ||
मिलते हैं — अपवाद !
देश-काल-वातावरण में
हर वर्ग में ………..
लेकिन इसका मतलब
यह तो नहीं —
कि प्रत्येक पुरूष
अमानुष है !
राक्षस है !
आतताई है !!
——————————
— डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
मैं माँ हूँ
मैं माँ हूँ मैं माँ हूँ माँ का दर्द समझती हूँ कब मुस्कुराती कब रोती हर पीड़ा समझती हूँ आज जो बेटी है कल उसको... Read more
नारी पुरूष की शक्ति
????? नर व नारी एक-दूसरे का पूरक, नारी पुरूष की शक्ति का उर्वरक। नारी बिना पुरूष जीवन अपूर्ण, नारी ही पुरूषों को करती पूर्ण। नारी... Read more
अलबेला हूँ
अलबेला हूँ ! भीड़ में खड़ा हूँ, फिर भी अकेला हूँ कदाचित इसीलिए मै अलबेला हूँ ! ! शोरगुल में धँसा पड़ा हूँ आफतो में... Read more
तेरे इश्क में जिये जा रहा हूँ
तेरे इश्क में मैं जिये जा रहा हूँ ----------------------++++++ तेरे इश्क में मैं जिये जा रहा हूँ, दुश्मनों के खंजर सहे जा रहा हूँ, तेरा... Read more