.
Skip to content

पलाश का साधुत्व

shuchi bhavi

shuchi bhavi

कव्वाली

July 25, 2016

ऐ पलाश! मैंने देखा है तुम्हें फूलते हुए,
देखा है मैंने-
तुम्हारी कोंप-कोंप से प्रस्फुटित होते-
यौवन को..
मैंने देखा है,
तुम्हें वर्ष भर फाल्गुन की बाँट जोहते…

पर,नहीं देखा मैंने-
बचपन आज के बच्चों में,
यौवन आज के युवाओं में,
और मैंने नहीं देखी-
गरिमामयी वृद्धावस्था…

हाँ,मैंने जरूर देखा-
असमय युवा होते बचपन को,
युवावस्था में वृद्ध होते यौवन को
और वृद्धावस्था में युवा दिखने की
चेष्टा करते प्रौढ़ को…….

और मैंने देखा है-
हर पल,हर कदम,हर क्षण,
मरते आदमी को,,,,

यदि नहीं देखा ,
तो बस ..
तुम्हारे जैसा साधू-ऐ पलाश!
जो साल भर ,,
करता हो फाल्गुन का इंतज़ार..
और आते ही यौवन,,
धारण कर लेता हो-
जोगिया चोला-
हर शाख …हर प्रस्फुटन…..

शुचि(भवि)

Author
shuchi bhavi
Physics intellect,interested in reading and writing poems,strong belief in God's justice,love for humanity.
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
इंसानियत से इंसान पैदा होते है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी फिदरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का मुख खुला ! मनका भी हूँ... धागा... Read more
अभी पूरा आसमान बाकी है...
अभी पूरा आसमान बाकी है असफलताओ से डरो नही निराश मन को करो नही बस करते जाओ मेहनत क्योकि तेरी पहचान बाकी है हौसले की... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more