.
Skip to content

नारी सशक्तिकरण एवं नारी संस्कार

drpraveen srivastava

drpraveen srivastava

लेख

September 3, 2017

नारी सशक्तिकरण व नारी संस्कार

कालचक्र अबाध गति से चल रहा है । पौराणिक कालों मे पूर्वजो की श्रंखला मे आदि पुरुष मनु एवम शतरूपा का वर्णन है । जिनसे इस सृष्टि की रचना हुई है । यह तो स्पष्ट है की सृष्टि की संरचना मे नर –मादा जाति का ही योगदान रहा है । जीवन के लक्षण जैसे आहार ,उत्सर्जन , विचरण, श्वसन व काम क्रिया को प्रधान लक्षण माना गया है । वनस्पति या जीव इन लक्षणो के आधार पर ही जीवित या मृत माना जाता है ।
मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है । वह समाज से अलग नहीं रह सकता है । समाज की एक मर्यादा ,एक परंपरा होती है । जातिगत व्यवस्था होती है । शिक्षित –अशिक्षित सभी व्यक्ति इसेजानते व मानते हैं । इसका पालन करते हैं । इसी समाज मे ईश्वर की परम श्रेष्ठ रचना स्त्री का दर्जा अत्यंत उच्च माना गया है । उसे देवी कहा गया है । मातृ रूप मे उसे रक्षक ,पालक व सुखसमृद्धि की दाता कहा गया है । वर्तमान समय मे भी नारी का स्थान पुरुष के समकक्ष माना गया है । इसे वैधानिक मान्यता प्राप्त है ।
शैशव काल से ही अपने सुकोमल व्योहार से स्वजनो का हृदय जीतने वाली कन्या घर की रौनक होती है । अपनी त्याग भावना , मेहनत ,लगन के बल पर इन कन्याओ ने घर –घर का मान बढ़ाया है । वही विपरीत परिस्थितियो मे माँ बाप का मनोबल बढ़ाया है , भाइयो को सहारा दिया है । उनका मार्गदर्शन किया है । उन्हे अच्छे बुरे की पहचान व सही मार्ग चुनने का रास्ता दिखाया है । सामाजिक परम्पराओ का पालन करते हुए समाज को नई दिशा देने की कोशिश की है ।
यह स्वाभाविक है की स्त्री –पुरुष मे आकर्षण होता है । परंतु सामाजिक दायरों मे रह कर अपने ख्वाबो के राजकुमार को चुनने का अधिकार उन्हे है । यह व्यवस्था कुछ ही समाज मे सीमित है । कन्या जब यौवन की दहलीज पर कदम रखती है तो उसे शारीरिक ,मानसिक एवम विचारो मे विकास की झलक मिलती है । संस्कारो का पुट भी मिलता है तो अल्हड्पन की झलक भी मिलती है । अपनी हदों मे रहते हुए माता पिता उसे शिक्षित करते हैं । अपने पैरों पर खड़े करने की कोशिश करते हैं । इस समाज मे अच्छे –बुरे ,सज्जन –दुर्जन , मृदुभाषी –कटुभाषी , ईर्ष्यालु –दयालु , खिल्ली उड़ाने वाले आलोचक –सहानुभूति रखने सभी तरह के मनुष्य विधमान हैं ।
मनुष्य के संस्कारो का निर्माण उनके पालन –पोषण व शिक्षा –दीक्षा पर ,व घर के माहौल पर निर्भर करता है । उनकी सकारात्मक –नकारात्मक सोच विचारो पर निर्भर करता है । कुछ व्यक्ति स्वार्थी ,आत्मकेंद्रित होते है वे केवल अपनी ही सोच रखते हैं । कुछ दूसरों के बारे मे न केवल अच्छे विचार रखते हैं , बल्कि उनकी देखभाल भी करते है । सामाजिक दृष्टिकोण इसी पर निर्भर करता है ।
नारी घरजनित संस्कारो के माध्यम से इस समाज का अंग है । सुग्राह्य एवम सुकोमल भावनाओ का पुंज है । उसे पल्लवित व पुष्पित होने दिया जाए ना कि उसकी सुकोमल भावनाओ परकुठारघात किया जाए । स्त्री के भाव इतने कोमल होते हैं कि जरा सी ठोकर या चोट वो जीवन भर याद रखती है , चाहे ठुकराने वाला उसका पिता या भ्राता , पति या अन्य कोई भी हो । ताउम्र टीस सहने वाली नारी किसी अनहोनी ,दुर्घटना कि आशंका से ही घबरा जाती है । जीवन का मार्ग बदल सकती है । यदि जीवन के किसी मोड पर कोई दुर्घटना जैसे बलात्कार , तेजाब फेकना या हमला करना आदि हो जाती है तो स्त्री का जीवन नर्क बन जाता है । सुकोमल हृदया नारी कुंठित ,भयभीत हो जाती है । उसका सामाजिक विकास अवरुद्ध हो जाता है । नित्य नए व्यंग बाण उसके कोमल आहत भावनाओ पर तुषारपात करते हैं । उसका खिला गौरवान्वित चेहरा मुरझा जाता है ,रह-रह कर वो वाकया जब उसे याद आता है तो वह तिल –तिल एक दिन मे सौ मौत मरती है । माता –पिता भाई बहन तक इस व्यथा का दर्द कम नहीं कर सकते हैं । सहानुभूति का हर शब्द ऐसे चुभता है जैसे उसे शर शैया पर सुला दिया गया है । कलंक व कटुता उसके जीवन का हिस्सा बन जाते हैं ।
कालचक्र तेजी से घूमता है स्त्री का स्वभाव एकतेजस्वी स्वाभिमानी स्वभाव है । यदि स्त्री इस अंधकार रूपी काली रात से लड़ कर प्रकाश रूपी जिंदगी जीना चाहती है तो उसे अपने अधिकारो के लिए लड़ना होगा । संघर्ष को अपनाना होगा । हृदय कि आग को जलाए रखना होगा । अपनी अस्मिता व अस्तित्व कि लड़ाई कोप्रत्येक नारीसमाज की लड़ाई मान कर लड़ना होगा । उसके एक कदम आगे बढ्ने से सौ कदम उसके साथ होंगे । जीवन के इस अभिनव प्रयोग मे न्याय ,कर्म व समाज का भी अभूत पूर्व योगदान होगा । जीवंत समाज की यही मर्यादा है । अच्छाई की बुराई पर यही जीत है । यही नारी का दैवीय गुण है ।

डा प्रवीण कुमार श्रीवास्तव

Author
Recommended Posts
]]]]] नारी तू पृथ्वी की धुरी है [[[[[
नारी तू पृथ्वी की धुरी है नारी तू जग की संचालिका है। नारी तू संस्कृति की संवाहिका है। नारी तू सभ्यता की समृद्धिका है। नारी... Read more
घूँघट  के पार
???? नारी के हाथ सृष्टि की पतवार, बहुत कुछ है नारी घूँघट के पार। घर-आँगन रौशन करती सूरज दमदार, स्नेह, ममता, त्याग, शक्ति रूप सकार... Read more
****नारी ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना*****
****----****----**** १. ***नारी दे ,नारी को मान तभी बनेगा वंश विशाल नारी को दें पूर्ण सम्मान नारी है ममता की खान २. ***नारी तू शक्ति... Read more
आभार नारी का
नारी है सृष्टा की शक्ति, सृष्टि निर्माण की सहभागी। नारी के हैविविध कलेवर, सारी सृष्टि आभारी। माता बन पोषण करती है, संरक्षण अभिवर्धन करती है।... Read more