.
Skip to content

नमन है तुझको हिन्दुस्तान

Priyanshu Kushwaha

Priyanshu Kushwaha

कविता

August 18, 2016

कविता-

” नमन है तुझको हिन्दुस्तान ”
—-

नव प्रभात की स्वर्णिम किरणें ,
करती नित्य श्रंगार ।
ऊंचे-ऊंचे पर्वत सुंदर,
बने मेखलाकार ।
झर-झर करते निर्मल झरने ,
देते पांव पखार ।
गंगा यमुना का अमृत जल,
करे नित्य यश गान ।
नमन है तुझको हिन्दुस्तान…..।
ब्रह्मपुत्र ,कावेरी ,सरिता ,
कल-कल बहती जाती ।
बढ़े चलो तुम मंजिल पथ पर ,
पल-पल कहती जाती ।
देश प्रेम की अमर कथाएँ ,
नया जोश भर देतीं ।
यही ऊर्जा स्फूर्ति ही ,
दुश्मन को हर लेती ।
मंदिर मस्जिद गुरुद्वारों से ,
सदा गूंजते ज्ञान ।
नमन है तुझको हिन्दुस्तान…..।
लेकिन अब अफसोस हो रहा ,
वर्तमान परिदृश्यों पर ,
शर्मनाक जो घटित हो रहे ।
हालातों और दृश्यों पर ।
जन गण मन है त्रसित आजकल ,
देख नित्य हालातों को ।
भ्रष्ट और लाचार व्यवस्था ,
होते निस दिन घातों को ।
जिसके सर पर भार देश का ,
वो बस करते है आराम ।
नमन है तुझको हिन्दुस्तान…..।

– © प्रियांशु कुशवाहा,
शासकीय महाविद्यालय,
सतना ।
मो.9981153574

Author
Priyanshu Kushwaha
निवास- आर . के. मेमोरियल स्कूल के पास हनुमान नगर नई बस्ती सतना (म.प्र) शिक्षा- अपनी विद्यालयी शिक्षा सतना जिले में स्थित केन्द्रीय विद्यालय क्र.१, से प्राप्त की। वर्तमान में शासकीय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय में बी.एस.सी.(प्रथम वर्ष)के छात्र हूं ।... Read more
Recommended Posts
"तु मेरा भगवान मैं तुझको नमन करूँ "(गीत) तु हैं मेरी शान मैं तुझको नमन करूँ। तु ही मेरा मान मैं तुझको नमन करूँ। ख्वाबों... Read more
कल
गुजरे हुवे कल पूछे कुछ ऐसे कल अभी गुजरा कंहा से फिर वापस आने की है जो बात कल नहीं, आज भी हूँ साथ हर... Read more
**** जिंदगी ***
[[[[ ज़िंदगी ]]]] दिनेश एल० "जैहिंद" ये जिंदगी क्या है....? पल दो पल का खेला है !! ये दुनिया क्या है....? पल दो पल का... Read more
कवि कविता नहीं लिखता है
कवि कविता नहीं लिखता है कविता तो बन जाती है शब्द बाण जब टूट पढ़े तो तो भाषा बन जाती है कवि कविता नहीं लिखता... Read more