Skip to content

धरती

Rishav Tomar (Radhe)

Rishav Tomar (Radhe)

कविता

July 3, 2017

चारो ओर सिर्फ बदसूरत सी थी धरती
कही धूल तो कही धुंआ सी थी धरती
बड़ी बड़ी दरारों से भरी थी ये धरती
सिर्फ सोने के रंग में रंगी थी ये धरती
न कोई उमंग थी और न ही कोई तरंग
उर्मिला के जीवन सी खामोस थी धरती
सूरज के ताप से बड़ी बेहाल थी धरती
लगती थी कोई शमसान सी है ये धरती
किसी ने पहली बार देखी थी ये धरती
वो बोला शायद कुदरत की भूल है धरती
पर ये जुलाई अनोखा बदलाव ले आई है
कुछ रंगहीन बूंदों में ये कई रंग भर लाई
जहाँ सिर्फ गर्मी से दरारे फटी हुई थी
वहाँ अंकुरण की नई सोगत लाई है
बड़ी अजीब कुदरत की सी कारीगरी है
जो रंग छिड़के बिना रंगीन हो गई है धरती
जो चंबल चांदी सी चमकती थी बीहड़ में
आज हरियाली के बीच सोना सी हो गई
ये चंबल की कीमती धरती हीरा सी गई है
उसी में लाल नीले बदलो को शिर पर सजाये
किसी नववधू सी जाँच रही है मेरी धरती
बच्चे की तोतली जुबाँ में हँस रही है धरती
कुरूपता एकरंगता गर्मी को त्याग कर के
इंद्रधनुषी रंगों में सज धज गई है ये धरती
बरसात के आगमन से परिवर्तित हो गई धरती
बैरंग बूँद से लाल गुलाबी हरे पीले जमुनी
अनगिनत रंगों से भर गई है श्यामली धरती
जामुन से जुबाँ को जमुनी कर रही है धरती
विष देकर नही मीठे रस से देवत्व दे रही है
कंठो को जामुन से नीलकंठ कर रही है धरती

Author
Rishav Tomar (Radhe)
ऋषभ तोमर अम्बाह मुरैना मध्यप्रदेश से है ।गणित विषय के विद्यार्थी है।कविता गीत गजल आदि विधाओं में साहित्य सृजन करते है।और गणित विषय से स्नातक कर रहे है।हिंदी में प्यार ,मिलन ,दर्द संग्रह लिख चुके है
Recommended Posts
गर्मी
चारो ओर सिर्फ बदसूरती छाई आग के गोले सी तपन लाई धूल ,धूप,धुंआ धुंआ सा है धरती गर्मी में जलती चिंगारी है हर जगह सिर्फ... Read more
ग़ज़ल
काले बादल से हवा में भी नमी लगती है | दिल के रोने से ये आँखे भी गिली लगती है || रजनी के आँसू से... Read more
सम्बन्ध
बादल और धरती का रिश्ता समझा है कभी जब धरती प्यास के लिये तरसती है तो बस बादल ही समझता है प्रियमवदा शर्मा
धरा सुंदर बना डालो
*धरा सुंदर बना डालो* बचा करके वनों को तुम, घना करके दिखा डालो। लगाकर पेड़ धरती पर, धरा सुंदर बना डालो।। ये सूरज चाँद ये... Read more