.
Skip to content

दीवानगी (कविता)

Onika Setia

Onika Setia

कविता

February 10, 2017

तू देख ज़रा मेरी दीवानगी,
किस तरह सज-संवर कर आई है।
आंसुओं के फूल और,
सर्द आहों के हार लायी है।
जिंदगी से मिले कुछ दर्द ,टीस,
वेदना और ज़ख्म लायी ह।
तुझे उपहार -स्वरूप देने हेतु,
दिल रूपी मञ्जूषा से गम लायी ह।
आ तुझे मैं अपने आंसुओं से सजा दूँ।
यह अश्कों की माला मैने सिर्फ,
तुम्हारे लिए बनायीं ह।
अपने अरमानो के टुकड़े करके,
तुम्हारे लिए सेज सजाई है।
आ मेरे समीप बैठकर राज़-ऐ- दिल खोल ले।
कुछ अपनी कह तो कुछ मेरी सुन ले।
फिर तुझे फुर्सत हो न हो।
फिर यह मुलाक़ात अपनी हो न हो।
फुर्सत तो तुझे आज भी नहीं,
मगर कोई बात नहीं चाँद लम्हें,
किसी से उधर ले ले।
आज मेरी दीवानगी तुझसे बस यही,
कहने आई है।

Author
Onika Setia
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा -- ग़ज़ल, कविता , लेख , शेर ,मुक्तक, लघु-कथा , कहानी इत्यादि . संप्रति- फेसबुक , लिंक्ड-इन , दैनिक जागरण का जागरण -जंक्शन ब्लॉग, स्वयं... Read more
Recommended Posts
मुक्ति  (कविता)
ऐ मेरे पंछी!, उड़ जा तू इस, पिंजरे से । ऐ मेरे पथिक, जा चला जा तू , इस किराये के मकान से, . क्या... Read more
कविता
???? विश्व कविता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ???? माँ सरस्वती का आशीर्वाद है -कविता। कवि की आत्मा का नाद है —कविता। आलौकिक सृष्टि का सौंदर्य... Read more
निर्भया
यह कविता दुभग्यपूर्ण निर्भया प्रकरण के बाद लिखी गयी .. नारी तू तोह भारत का मान है सम्मान है फिर क्यों हो रहा  आज इस... Read more
कविता क्या होती है...?
कविता क्या होती है.....? इसे नहीँ पता,उसे नहीँ पता मुझे नहीँ पता...........! कहते हैँ कवि गण- कविता होती है मर्मशील विचारोँ का शब्द पुँज, कविता... Read more