Skip to content

दिखा नुकसान जो अपना

पं.संजीव शुक्ल

पं.संजीव शुक्ल

कविता

July 17, 2017

कहीं पे चुप से रहते
कहीं हम बोल जाते हैं
जो होतीं राज की बातें
उसे हम खोल जाते हैं।
करे नुकसान किसी का जो
उससे फर्क नहीं कोई
दिखा नुकसान जो अपना
वहीं हम बोल जाते हैं।
हमें नहीं देश की चिंता
नहीं अपमान का भय है
भले हो लाश में लिपटी
धन की चाह प्रबल हैं,
जहाँ से लाभ हो अपना
वही सर को झुकाते हैं
दिखा नुकसान जो थोड़ा
वहीं हम बोल जाते हैं।
कटे चाहे शीश सैनिक का
हमें अफसोस है कैसा?
मिटे चाहे राष्ट्र की गरिमा
हमें इससे है क्या करना?
कटा जो सीन पिक्चर का
वही मुख खोल जाते हैं,
दिखा नुकसान जो थोड़ा
वही हम बोल जाते हैं।
बात जो राष्ट्र धर्म की हो
तो गाने हम सुनाते है
बता कर राष्ट्र का बेटा
निभाते फर्ज अपना हैं
जो आई बात मरने की
वहीं मुख मोड़ जाते हैं,
दिखा नुकसान जो थोड़ा
वही हम बोल जाते हैं।
©®पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
9560335952

Author
पं.संजीव शुक्ल
मैं पश्चिमी चम्पारण से हूँ, ग्राम+पो.-मुसहरवा (बिहार) वर्तमान समय में दिल्ली में एक प्राईवेट सेक्टर में कार्यरत हूँ। लेखन कला मेरा जूनून है।
Recommended Posts
!! हम आपको प्यार से सलाम करते हैं !!
नफरत के काबिल समझते हो तो नफरत करो गर प्यार के काबिल समझते हो प्यार करो हमने अपनी तो फितरत ही कुछ ऐसी बना रखी... Read more
ज़िंदगी खत्म
ख़ुदा तेरी कितनी मेहरबानी हम पर, की शाम को हम बेहोश हो जाते है , ज़िंदगी तेरा सारा दिन हम बोझ सहकर , शाम को... Read more
क्यूँ हम वीरों की शहादत भूल जाते हैं?
ग़ज़ल (23.09.2016) हर बार उसकी नापाक, आदत भूल जाते है क्यूँ हम अपने वीरों की,शहादत भूल जाते हैं? घड़ी बस दो घड़ी कुर्बानियों को याद... Read more
हम
हमारे जैसा ही होना चाहकर भी, जब हो नही पाते हैं । हमारे काम करने के अन्दाज़ से वो लोग जल जाते हैं ! हम... Read more