Skip to content

दास्ताँ ऐ मोहब्बत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

गज़ल/गीतिका

November 28, 2016

दिल के दरवाजे पर नजरों से दस्तक दी थी कभी,
दबे पैर आकर मेरी जिंदगी में आहट की थी कभी।

कोरा कागज था जीवन मेरा तुमसे मिलने से पहले,
कोरे कागज को भरने के लिए मोहब्बत की थी कभी।

उन दिनों मेरी तन्हाई को आबाद किया तेरे साथ ने,
बैठो पल दो पल तुम साथ मेरे, यूँ दावत दी थी कभी।

इजहार ऐ मोहब्बत तुमने किया था नजरों से अपनी,
दिल के पन्ने पर मोहब्बत की लिखावट दी थी कभी।

कैसे भूल सकते हो तुम राजाओं सा स्वागत किया था,
दिवाली नहीं थी पर दिवाली सी सजावट की थी कभी।

मेरे दिल की सल्तनत पर आज भी तुम्हारा ही राज है,
इसी सल्तनत को पाने के लिए बगावत की थी कभी।

कैसे रहे तुम मेरे बिन, तुम्हारे जाने से लाश बन गयी मैं,
तेरे जाने के बाद खुदा से तेरी शिकायत की थी कभी।

यकीं था मोहब्बत और खुदा पर लौट कर आओगे तुम,
तुम्हें पाने को सुलक्षणा खुदा की इबादत की थी कभी।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
ऐ सनम हम को कभी ना आजमाना/मंदीप
ऐ सनम हम को कभी ना आजमाना/मंदीप ऐ सनम हम को कभी ना आजमाना, वरना दोबारा कभी लौट कर नही आयेगे, दिखूं ना फिर दोबारा... Read more
पैगाम भेजा
मोहब्बत पर लाज का पहरा बिठा आँखों से पैगाम भेजा, हाल ऐ दिल लिख अपना पहला खत तुम्हारे नाम भेजा। सोच कर मदहोशी मोहब्बत की... Read more
कभी जागीर लगती है................ “मनोज कुमार”
कभी शोला, कभी शबनम, कभी तू आग लगती है कभी जन्नत, परी कोई, कभी आफ़ताब लगती है कभी मेरी है तू लैला, कभी तू हीर... Read more
मेरी और उसकी मोहब्बत
मेरी और उसकी मोहब्बत ★★मेरी और उसकी मोहब्बत★★ मोहब्बत उन्हें भी और मोहब्बत हमें भी थी, मगर हमे उनसे थी और उन्हें किसी और से... Read more