Skip to content

दर्द बुरा होता है

Ranjana Mathur

Ranjana Mathur

गज़ल/गीतिका

September 13, 2017

धीरे-धीरे ही तेरी सच्चाई का ,पता होता है
ऐ दुनिया।                                              बाद की तन्हाई का दर्द बुरा होता है
ऐ दुनिया।                                         
बचपन का मीठा प्यार बहुत भाता था मगर
युवा भाइयों की जुदाई का दर्द बुरा होता है
ऐ दुनिया।                      माता-पिता ने हम पर वारा, अपना जीवन  उन से हमने की बेपरवाही का दर्द बुरा होता है
ऐ दुनिया
अपनों से हमने किया था प्यार उसके बदले
उनसे मिली बेवफाई का दर्द  बुरा होता है
ऐ दुनिया
बिटिया तो हुआ करती है घर भर की रौनक
लाडो रानी की  विदाई का दर्द बुरा होता है
ऐ दुनिया।                                     
जब माँ जाये बच्चों के बीच खिंचती हैंदीवारें
तो इस जग हंसाई का दर्द बुरा होता है
ऐ दुनिया।                                           
सच पूछो तो तेरे इस जहाँ में, कदम कदम पर
मिली  रुसवाई का, दर्द  बुरा  होता है
ऐ दुनिया।                                               ——– रंजना माथुर  दिनांक 26/11/2016
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

Author
Ranjana Mathur
भारत संचार निगम लिमिटेड से रिटायर्ड ओ एस। वर्तमान में अजमेर में निवास। प्रारंभ से ही सर्व प्रिय शौक - लेखन कार्य। पूर्व में "नई दुनिया" एवं "राजस्थान पत्रिका "समाचार-पत्रों व " सरिता" में रचनाएँ प्रकाशित। जयपुर के पाक्षिक पत्र... Read more
Recommended Posts
ग़मों की दुनिया तलाश लोगे बुरा करोगेे
ग़मों की दुनिया तलाश लोगो बुरा करोगे अलेहदा सबसे रहा.. करोगे बुरा करोगे बुरा करोगे जो चुप रहोगे दुखों पे अपने किसी से मेरे सिवा... Read more
ग़मों की दुनियाा तलाश लोगे बुरा करोगे
ग़मों की दुनिया तलाश लोगे बुरा करोगे सभी से ख़ुद को जुदा करोगे बुरा करोगे बुरा करोगे जो चुप रहोगे ..दुखों पे अपने किसी से... Read more
मुक्तक
इश्क रोकर सींचे तो क्या, मतलबी दुनिया बंजर है मासूमियत चेहरे पे तो क्या, नफरतों का ही मंजर है यहां बस दिल के बदले में... Read more
दास्ताँ ऐ दर्द
मिलना कभी तुम फुर्सत में हाल ऐ दिल बताएंगे, जख्म अपने दिल के उस रोज तुम्हें हम दिखाएंगे। सीने में अपने दर्द का ज्वालामुखी दबा... Read more