.
Skip to content

तेरा जादू मोदी

संजय सिंह

संजय सिंह "सलिल"

गज़ल/गीतिका

February 7, 2017

तेरा जादू मोदी बड़ा हो गया l
यहां पर बखेड़ा खड़ा हो गया ll

भरे नोट बोरी में सड़ते यहां l
तिजोरी का ताला खुला हो गया ll

जहां हम रहे आज भी हम वही l
उदासी क ऊंचा बसर हो गया ll

उड़ते सितम गर धरा पर गिरे l
उड़ानों पे डर का कहर हो गया ll

सुना है कि अब नींद आती नहीं l
दवा का भी कमतर असर हो गया ll

सभी हैं यहां अब तेरे साथ में l
निराशा में आशा क हां हो गया ll

नहीं कोई अब तेरे जैसा यहां l
“सलिल” मान क्या ना तेरा हो गया ll

संजय सिंह “सलिल”
प्रतापगढ़ ,उत्तर प्रदेश l

Author
संजय सिंह
मैं ,स्थान प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश मे, सिविल इंजीनियर हूं, लिखना मेरा शौक है l गजल,दोहा,सोरठा, कुंडलिया, कविता, मुक्तक इत्यादि विधा मे रचनाएं लिख रहा हूं l सितंबर 2016 से सोशल मीडिया पर हूं I मंच पर काव्य पाठ तथा मंच... Read more
Recommended Posts
II.....मैं तेरा फिर भी.....II
कैसे कह दूं कि चाहता है मुझे l एक मुद्दत से जानता है मुझे ll बात बन जाएगी मनाने से l आदमी ठीक मानता है... Read more
II  यादें सता रही है  II
यादें सता रही है गुजरे हुए दिनों की l जो साथ में गुजारे उन कीमती पलों की ll क्या बात मैं बताऊं कहती जो ए... Read more
II शायरी II
भेद दिल के सब बताती शायरी l दो दिलों को पास लाती शायरी ll बात जो बनती नहीं तकरीर से l चंद लफ़्ज़ों में सुनाती... Read more
सारे फरेब
बिसात है बिछी ,वह खेल रहा है l सारे फरेब दिल , झेल रहा है ll हम प्यादे वह ,बजीर बादशाह l जीत किसकी ,कोई... Read more