.
Skip to content

डियर जिन्दगी

हेमा तिवारी भट्ट

हेमा तिवारी भट्ट

लेख

January 9, 2017

डियर जिन्दगी,
जीती आयी हूँ मैं तुम्हें आज तक कभी रो के कभी हँस के,कभी-कभी बहुत झल्लाया है तुमने और बहुत बहुत रूलाया भी
इतना कि ……
मौत से दोस्ती करने को जी चाहा वही मौत जो तुम्हारी दुश्मन है|पर कुछ तो है तुम में कि तुम्हारे दिए इतने जख्मों के बावजूद मौत मुझे तुम्हारे खिलाफ बरगला न सकी,अच्छा ही हुआ वरना मैं उन खूबसूरत पलों के तोहफे कैसे खोल पाती जो तुमने छुपाकर रखे थे अपने पहलू में मेरे लिए|कैसे जान पाती कि तुम जो मुझे इतनी बुरी लगती हो कभी कभी, अनिर्वचनीय सुन्दर,रोमांचक और अद्भुत भी हो|
पर अब वक्त की भट्टी में तपते तपते मेरी तुमसे दोस्ती गहराती जा रही है और तुम्हारे प्रति मेरा प्रेम भी बढ़ता जा रहा है|मैं अब तुम्हें समझने लगी हूँ,समझने लगी हूँ कि ये जो तुम कभी-कभी रूखी और कठोर हो जाती हो वो तरीका है तुम्हारा मुझे सँवारने का,मुझे निखारने का|वाकई तुम मेरी बेस्ट फ्रेण्ड हो डियर जिन्दगी|पर एक बात कहूँ जब कुछ लोग तुम्हें समझ नहीं पाते और तुम्हारे दिए हुए चंद जख्मों के आधार पर तुम्हें खलनायक समझकर छलावी मौत से दोस्ती कर लेते हैं तो मुझे बड़ा अफसोस होता है|उस वक्त मेरा मन करता है काश मैं या मुझ जैसे वे लोग जिन्होंने जिन्दगी से दोस्ती कर ली है और जो मौत के छलावे से बच निकले आये हैं,उन्हें तुमसे रूठकर मौत से दोस्ती करने जा रहे लोगों को समय पर पहचानने और समझाने का एक मौका मिल जाता तो असमय होने वाली ऐसी मृत्यु-मित्रता को रोका जा सकता|मैं तुम्हारी दोस्ती की अहमियत समझती हूँ डियर जिन्दगी और इसीलिए मैं तुम्हें प्यार करने वाले,तुम्हें चाहने वाले,तुम्हें शिद्दत से जीने वाले और तुम्हारे साथ हर हाल में खुश रह कर जीने वाले दोस्तों की संख्या बढ़ाना चाहती हूँ|आशा करती हूँ मेरी इस कोशिश में तुम भी मेरा साथ दोगी|ओ.के.लव यू डियर जिन्दगी साथ चलते चलते…….
लेखिका हेमा तिवारी भट्ट

Author
हेमा तिवारी भट्ट
लिखना,पढ़ना और पढ़ाना अच्छा लगता है, खुद से खुद का ही बतियाना अच्छा लगता है, राग,द्वेष न घृृणा,कपट हो मानव के मन में , दिल में ऐसे ख्वाब सजाना अच्छा लगता है
Recommended Posts
एहसान मौत के,,,,,,,,,
मत दोष दे तू वक्त को , कभी - कभी किस्मत भी दगा करती है । आँखें सो जाया करती है पर , रूह जगा... Read more
ज़िन्दगी कभी-कभी अजनबी सी लगती है...
अपनी होकर भी, ना जाने क्यूँ.... किसी और की लगती है.... ये ज़िन्दगी कभी कभी…. हाँ.....कभी-कभी अजनबी सी लगती है..... धड़कता तो है दिल अपने... Read more
कभी धुप तो कभी छाव सी है ये ज़िन्दगी
कभी धुप तो कभी छाव सी है ये ज़िन्दगी तो कभी बहती नाव सी है ये ज़िन्दगी कभी मंझधार में लटकी तो कभी किनारों की... Read more
मौत को बुलाने वाले
मौत को बुलाने वाले वो तो कभी भी आ सकती है कभी सड़क पर, कभी घर में, कभी प्लेन में, तो कभी दूकान में मर... Read more