.
Skip to content

” झूल रहा है ललना पलना ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

July 4, 2017

किस्मत की रेखाओं में दम !
हमें मिला है अथक परिश्रम !
हैं रोज बो रहे , रोज़ काटते –
भविष्य अनिष्चित लगता बेदम !
रो रो कर खुद चुप हो जाता ,
भूख को इसकी लगे न टलना !!

सिर पर बोझा लाद रखा है !
सुख का स्वाद कहाँ चखा है !
रात दिवस हैं थके थके से –
समय भी अपना कहां सखा है !!
सिरहाने अपने कांटें हैं ,
यों ही उम्र को है बस ढलना !!

है अभाव में लालन पालन !
झिड़की मिले , नहीं सम्भाषण !
वक्त नहीं मीठी बातों का ,
नजरों से ही यहां दुलारन!
धूप , नज़र से तुम्हे बचाऊं –
दुनिया ज़ालिम बड़ी है छलना !!

बड़ी हसरतों से पाला है !
पिया हलाहल का प्याला है !
अमावस के घेरे मिट जाए –
जीवन का तू उजियाला है !
बाधाओं से हार न मानी –
संभल संभल कर पग तू धरना !!

बृज व्यास

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
गीत - बदनुमा रोज ग़म से
गीत - बदनुमा रोज ग़म से ★★★★★★★★★★★★★ सभी कह रहे हैँ मुझे एक दम से कि मैँ हो रहा बदनुमा रोज ग़म से दिल सोचता... Read more
थका थका दिन
अकेलेपन से व्यथित मन कोई साथी ढूँढ रहा है।पर जब उसे अपने आप से बात करने की फ़ुर्सत नहीं तो कोई दूसरा क्यों करे:- ------------------------... Read more
आने से
आ गई ये बहार आने से अब मिली है खुशी हँसाने से फूल मुसकाँ सजा रहे तेरी ये नशा है तुझे पटाने से आ रहा... Read more
ऐसा भी कहाँ, के दिल तोड़ के रो लेता
ऐसा भी कहां, के दिल तोड़ के रो लेता, जरा मुस्कुराता, और रो लेता, कोई बात रखता, दिलासा देता, दिल को, दिल, हाल ए दिल... Read more