.
Skip to content

जिंदगी की रेस

DESH RAJ

DESH RAJ

अन्य

January 30, 2017

दूर तक बस केवल एक सन्नाटा नज़र आता है,
सन्नाटे में आदमी को सिर्फ भागते हुए पाता हूँ I

जिंदगी को रेस बनाकर हम कहाँ दौड़ते जा रहे ?
कहाँ जाना ?क्या पाना ? हम नहीं समझ पा रहे,
अंधी दौड़ प्रतियोगिता में बस भागते हुए जा रहे ,
इंसानियत से दूर आग के दरिया में समाते जा रहे I

दूर तक बस केवल एक सन्नाटा नज़र आता है,
सन्नाटे में आदमी को सिर्फ भागते हुए पाता हूँ I

“राज” एक दिन तुझे भी इस “ जहाँ ” को छोड़कर है जाना,
प्यारी जिंदगी को “दुनिया की रेस” बनाकर दौड़ मत लगाना,
मुट्ठी बांधकर आया था दुनिया में, हाथ फैलाकर तुझे है जाना ,
“ इंसानियत का दामन” थाम ले,तुझे “प्रभु” की नगरी है जाना I

दूर तक बस केवल एक सन्नाटा नज़र आता है,
सन्नाटे में आदमी को सिर्फ भागते हुए पाता हूँ I

देशराज “राज”

Author
DESH RAJ
Recommended Posts
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 मदयुक्त भ्रमर के गुंजन सी, करती हो भ्रमण मेरे उर पर। स्नेह भरी लतिका लगती , पड़ जाती दृष्टि जभी तुम पर।। अवयव की... Read more
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
इंसानियत से इंसान पैदा होते है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी फिदरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का मुख खुला ! मनका भी हूँ... धागा... Read more