.
Skip to content

जान मिल गई

कृष्णकांत गुर्जर

कृष्णकांत गुर्जर

कव्वाली

February 7, 2017

तू मिली यू मुझे जैसे जान मिल गई|
मरते हुये को इक जिंदगी मिल गई||

तू ही जीवन मेरा तू ही जान है मेरी,
आज गेरो मे अपना सा कोई मिल गया

जबसे देखा तुझे तबसे जाना तुझे,
मेरे दिलने दिलवर माना तू तुझे

इक मरते हुये को जेसे जान मिल गई
मुरझानी कली जो अब खिल गई

खुशियाँ भी मिली आबरू मिल मिल गई
दो तन मे जान सी दवा  मिल गई

Author
कृष्णकांत गुर्जर
संप्रति - शिक्षक संचालक G.v.n.school dungriya G.v.n.school Detpone मुकाम-धनोरा487661 तह़- गाडरवारा जिला-नरसिहपुर (म.प्र.) मो.7805060303
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
आहिस्ता आहिस्ता!
वो कड़कती धूप, वो घना कोहरा, वो घनघोर बारिश, और आयी बसंत बहार जिंदगी के सारे ऋतू तेरे अहसासात को समेटे तुझे पहलुओं में लपेटे... Read more
इंसानियत से इंसान पैदा होते है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी फिदरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का मुख खुला ! मनका भी हूँ... धागा... Read more
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more