.
Skip to content

चिड़िया का घोंसला

DESH RAJ

DESH RAJ

गज़ल/गीतिका

March 22, 2017

“ चिड़िया ” घोंसला छोड़कर आसमान से पार उड़ गई ,हम बस देखते रह गए ,
सूनी हो गई पेड़ की पत्ती-डालें , हम आसमान की ऊंचाईयों को देखते रह गए I

तिनका-2 जोड़कर , लोगों के दिलों को तोड़कर चिड़िया ने “घोंसला” बनाया ,
जब पेड़ में फल-फूल आये तो उसने आसमान से पार अपना ठिकाना बनाया ,
बेदर्दी “ चिड़िया ” तुझे पेड़ ,पत्तियों,डालियों पर क्यों तनिक तरस नहीं आया ?
आंसुओं में भीगी पलकें निहार रही चिड़िया को ,पर तूने सबसे मुंह क्यों फिराया ?

“ चिड़िया ” घोंसला छोड़कर आसमान से पार उड़ गई ,हम बस देखते रह गए ,
सूना हुआ पेड़ का सारा “जहाँ ” हम बस जिंदगी की तेज रफ़्तार देखते रह गए,

चिड़िया ने सुनहरे टूटे पंखों से एक पैगाम हम सब तक पहुँचाया ,
आना- जाना कुदरत का अमिट दस्तूर है , तू क्यों अपने पर इतराता ?
सुंदर गुलिस्ताँ छोडकर तुझे भी एक दिन दूर गगन के पार है जाना ,
इस छोटी जिंदगानी में गूंज जाये जग में, तेरा इंसानियत का तराना I

“ चिड़िया ” घोंसला छोड़कर आसमान से पार उड़ गई ,हम बस देखते रह गए ,
बिखर गई मोतियों की सुंदर माला हम बस टूटे मोती की ओर निहारते रह गए I

“राज” घोंसला छोड़ने से पहले गुलशन में अपनी खुसबू बिखेरते हुए चले ,
इंसानियत के दो फूल “जग के मालिक” के चरणों पर अर्पित करते चले ,
इंसान -2 से प्यार करके “परम पिता ” के सपनों को साकार करते हुए चले ,
उसके जग से प्यार करके अपना जीवन “ मानवता ” के नाम करते हुए चले I

“ चिड़िया ” घोंसला छोड़कर आसमान से पार उड़ गई ,हम बस केवल देखते रह गए ,
आना -जाना जीव का जीवनचक्र है , हम जीवन की गहराइयों को बस देखते रह गए I

देशराज “राज”

Author
DESH RAJ
Recommended Posts
चिड़िया
चिडिया उड़ती चिडिया गाती चिडिया मन को बहुत लुभाती चिडिया सुबह सवेरे घर की छत पर गीत सुनाने आती चिडिया पेड़ पेड़ पर डाल डाल... Read more
एक गाती चिड़िया
*एक गाती चिड़िया* (लघु कथा) सुशील शर्मा एक चिड़िया मस्त गगन में गाती गुनगुनाती घूमती रहती थी।सब उसकी बहुत तारीफ करते थे ।सब उसकी आवाज... Read more
वक़्त के सँग ही कदम अपने मिलाते रह गये
वक़्त के सँग ही कदम अपने मिलाते रह गये कारवां बस यादों का हम तो बनाते रह गए देखते ही देखते लो साँझ बेला आ... Read more
मुश्किलों के दौर को
मुश्किलों के दौर को हम खुद पे ऐसे सह गए कुछ तो आँसू पी लिए कुछ एक आँसू बह गए उम्र भर आँखों में पाला... Read more