.
Skip to content

गोपी दर्शन प्यासी हैं

Rita Singh

Rita Singh

कविता

February 16, 2017

रम गये कान्हा राज पाट में
गोपी दर्शन – प्यासी हैं ,
मिलना कैसै होगा उनसे
जिनकी वो अभिलाषी हैं ।
सखा तुमको समझा कान्हा
योग हमें सिखाओ न ,
कुछ हमरे मन की सुन लो
कुछ अपनी हमें सुनाओ न ।
अर्पित तुमको प्रेम सुमन हैं
करते क्यों स्वीकार नहीं ,
आ जाओ फिर प्रेम वन में
गोपी तुम्हें पुकार रहीं ।
राजयोग ये तेरा कान्हा
हमको नहीं लुभाता है ,
मुरलीवाला रूप वो तेरा
हर घर पूजा जाता है ।
उसी रूप के संग में गिरधर
फिर मधुवन आ जाओ न ,
दर्शन – प्यासे हैं जो नैना
तृप्त उन्हें कर जाओ न ।

डॉ रीता
आया नगर , नई दिल्ली

Author
Rita Singh
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय पता - एफ -11 , फेज़ - 6 , आया नगर , नई दिल्ली- 110047 आत्मकथ्य - इस भौतिकवादी युग में मानवीय मूल्यों को सनातन... Read more
Recommended Posts
आकर राधे देख लो
आकर राधे देख लो तुम कलयुगी संसार नारी का मान करे नही वो कैसे करेगा प्यार तुम्हारे समर्पण पर कान्हा ने खोला ह्रदय द्दार पर... Read more
[[ प्रेम की अब बाँसुरी  लेकर  चले  कान्हा  ]]
प्रेम की अब बाँसुरी लेकर चले कान्हा ,! प्रेम की इस तान पर हम मर मिटे कान्हा ,!! प्रेम का रिश्ता बनाया,सँग तुम्हारे दिल से... Read more
अदा
आज का हासिल- अदा कहां से शुरू करूं कान्हा और कहां खत्म कान्हा। तेरी हर एक अदा है दिलकश ज़माने से जुदा जुदा। जिस अदा... Read more
मुक्तक
कुछ और नहीं हिय कान्हा के,प्रतीबिंबित है अनुराग अनंत जल भर मारी पिचकारी कान्हा,मुख लाय दियो अबीर बसंत राधा मुख दीप्ती चमक रही,ज्यूँ प्रथम रश्मी... Read more