.
Skip to content

गीत : प्रेम धुन में प्रीत लय में

डॉ. हीरालाल प्रजापति

डॉ. हीरालाल प्रजापति

गीत

February 13, 2017

प्रेम धुन में प्रीत लय में गुनगुनाएगी ॥
लेखनी मेरी उसी के गीत गाएगी ॥
दृष्टि में मेरी सदा रहता है मुख उसका ।
और मुझको ताकते रहना है सुख उसका ।
मैं भरी बरसात में भी यदि पुकारूँ तो ,
छोडकर सब मुझसे मिलने दौड़ आएगी ॥
लेखनी मेरी उसी के गीत गाएगी ॥
मैं उसे राई सा चाहूँ वो पहाड़ों सा ।
मैं उसे डमरू सा वो चाहे नगाड़ों सा ।
यदि करूँ उससे निवेदन एक चुंबन का ,
वो मेरी बाहों में आकर झूल जाएगी ॥
लेखनी मेरी उसी के गीत गाएगी ॥
गर्त में जब भी निराशा के मैं फँस जाऊँ ।
ठोस दलदल में हताशा के मैं धँस जाऊँ ।
तत्व की बातों से गीता ज्ञान से बढ़कर ,
दे के ढाढस अंततः मुझको बचाएगी ॥
लेखनी मेरी उसी के गीत गाएगी ॥
मुझमें जो भी त्रुटियाँ हैं जो न्यूनताएँ हैं ।
जो भी है अल्पज्ञता जो मूर्खताएँ हैं ।
सबसे ही अवगत है पर वो मारकर ताने ,
हीनता का बोध ना मुझमें जगाएगी ॥
लेखनी मेरी उसी के गीत गाएगी ॥
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Author
Recommended Posts
‘ मेरा हाल सोडियम-सा ’ [ लम्बी तेवरी, तेवर-शतक ] +रमेशराज
......................................................... इस निजाम ने जन कूटा हर मन दुःख से भरा लेखनी । 1 गर्दन भले रखा आरा सच बोलूंगा सदा लेखनी । मैंने हँस-हँस... Read more
सखी और सम्बन्ध
न कोई है रिस्ता न कोई है नाता शायद इसे लिखने भूले बिधाता अगर धागे उससे जुड़े ही न होते तो हर रोज उसको क्यों... Read more
सच में लगा इंसान सा......
एकांत में चुपचाप सा शांत सा मगन में मगन इंसान सा, तल्लीन किसी लय में ऊँगली से बजती चुटकी को संगीत बना, कुछ गुनगुना रहा... Read more
(गीत) चाह तेरी मेरी आँखों मे
चाह तेरी, मेरी आँखों मे देख सको तो पढ लेना साँस मेरी खुद की धड़कन मे जान सको तो सुन लेना ॥ अपने मन मंदिर... Read more