.
Skip to content

गीत- टूट जाए नहीं हौसला ये कहीं

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

गीत

September 17, 2016

गीत- टूट जाए नहीं हौसला ये कहीं
★★★★★★★★★★★★★★★
जिन्दगी के लिए सिलसिला ये कहीं,
टूट जाए नहीं हौसला ये कहीं।
★★★
कर्म से ही यहाँ आज सम्मान है
बैठना, खुद का’ ही एक अपमान है
ये तो’ रोजी सुनो जिन्दगी है ते’री
कर्म में ही छिपी हर खुशी है ते’री
छोड़ना तुम नहीं फैसला ये कहीं-
टूट जाए नहीं हौसला ये कहीं।
★★★
जो रुका है यहाँ मिट गया है यहाँ
जल वही है नया जो चला है यहाँ
जो हमेशा सफर में रुके रह गये
सर उ’न्हीं के यहाँ पर झुके रह गये
बिन किये कुछ है’ जीवन खिला ये कहीं?-
टूट जाए नहीं हौसला ये कहीं।
★★★
जो जवानी को’ यूँ ही लुटाते रहे
स्वप्न ही बस हजारों सजाते रहे
यूँ जमाने की ठोकर जो खाते रहे
सोचते अब समय क्यों गवाते रहे
आज खुद से है’ उनको गिला ये कहीं-
टूट जाए नहीं हौसला ये कहीं।

– आकाश महेशपुरी
★★★★★★★★★★★★★★★★★★★
नोट- मात्रा पतन के लिए चिह्न (‘) का प्रयोग किया गया है।

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
मुक्तक
तेरी उम्र तन्हाई में गुजर न जाए कहीं! तेरी जिन्दगी अश्कों में बिखर न जाए कहीं! क्यों इसकदर मगरूर हो तुम अपने हुस्न पर? कोई... Read more
शेर
जिन्दगी खूबसूरत और लाजवाब हो जाए। अगर विचार खुशबू और हृदय गुलाब हो जाए। कुछ ऐसे कर्म करो "प्रीतम"दुनिया मिशाल दे, शख्सियत खुद हर सवाल... Read more
ज़िन्दगी
है खूबसूरत ज़िन्दगी, सब जानते यह बात फिर क्यों गँवाते हैं इसे, प्रभु से मिली सौगात जो जान लेता भेद यह, पा जाए फिर वो... Read more
II  डगर आसान हो जाए  II
सफर में बच के तू रहना कहीं ना रात हो जाए l तेरी जो दौलते असबाब ही जंजाल हो जाए ll ठिकाना ढूंढना अपना समय... Read more