.
Skip to content

ग़ज़ल

Faiz Badayuni

Faiz Badayuni

गज़ल/गीतिका

November 26, 2016

ग़ज़ल
********
हमारे इश्क़ के सदके ,ये काम कर जाओ
हमारे दिल में नहीं , रूह में उतर जाओ
**********
हमें भी प्यार की खुशबू में तर बतर कर दो
कभी करीब से आकर, मेरे गुजर जाओ
************
हमारा मिलके कभी, तुमसे दिल नहीं भरता
तुम्हें कसम है हमारी, अभी ठहर जाओ
************
मेरे करीब तो आओ , न दूर बैठो तुम
उदास रात है चाहत, का नूर भर जाओ
***********
हमेशा साथ निभाना, न तोड़ना दिल को
किसी हसीन की सूरत पे,तुम जो मर जाओ
*************
तुम्हारे वादे पे मुझको , यकीन कैसे हो
कहीं ज़माने की बातों से तुम न डर जाओ
***********
न दूर करना कभी दिल से “फ़ैज़ “की चाहत
हमें जो छोड़ के , अपने कभी शहर जाओ
*********
फ़ैज़ बदायूँनी
फोन न0-09958919395 (दिल्ली )002

Author
Faiz Badayuni
Recommended Posts
'करीब आ जाओ'
गर जानना है मुझको, करीब आ जाओ. पहचानना है मुझको, करीब आ जाओ, सिर्फ दुआ सलाम से फितरत नहीं जानी, दिल्लगी की है तो फिर... Read more
इश्क़ में हमारी बे-ज़ुबानी देखते जाओ
इश्क़ में हमारी बे-ज़ुबानी देखते जाओ उस पर आलम की तर्जुमानी देखते जाओ तुम ना आओगे कभी मुन्तज़िर हम फिर भी हैं लिल्लाह प्यार की... Read more
हो जाओ
मोहबत में गुलाब हो जाओ मंजर ए मेहताब हो जाओ इस तरह करो मोहबत हमसे बिल्कुल लाजबाब हो जाओ बस इतना ही कहूँगा साथी चाँदनी... Read more
इक दीप मुहब्बत का तुम फिर से जला जाओ
वज़्न- ? 1121/1222/1221/1222 ग़ज़ल ---;;;; --- मेहमान मिरे दिल के, मुझे छोड़ के न जाओ बांहें ये बुलाती हैं,------- सीने से लगा जाओ अश्कों के... Read more
2017 Copyright Sahityapedia