.
Skip to content

गर्मी

Punam Garg

Punam Garg

हाइकु

March 25, 2017

बाबा रे बाबा
देखो आ गई गर्मी
जली धरती

उफ ये गर्मी
दिखा गई बेशर्मी
नंगा बदन

भाये न गर्मी
अलसाये से दिन
बेरंग दिन

लू है चलती
खिड़की न खुलती
चूता पसीना

बिजली गई
बेचैन हुए लोग
झलते पंखा

सूर्य जलाता
सूखा ताल तलैया
धरती प्यासी

बच्चे हर्षित
स्कूल हो गये बंद
हवा मूर्छित

पूनम गर्ग

Author
Punam Garg
Recommended Posts
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है
ये माना घिरी हर तरफ तीरगी है मगर छन भी आती कहीं रोशनी है न करती लबों से वो शिकवा शिकायत मगर बात नज़रों से... Read more
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more
अंदाज़ शायराना !
जैसा सम्मान हम खुद को देते है ! ठीक वैसा ही बाहर प्रतीत होता है ! जस् हमें खुद से प्रेम है ! तस् बाहर... Read more
आस!
चाँद को चांदनी की आस धरा को नभ की आस दिन को रात की आस अंधेरे को उजाले की आस पंछी को चलने की आस... Read more