.
Skip to content

??◆सैनिक का धर्म◆??

Radhey shyam Pritam

Radhey shyam Pritam

कविता

May 3, 2017

सैनिक हो चाहे किसी देश का भी।
इंसान पहले है किसी वेश का भी।।

आमने-सामने लड़ना तो फर्ज़ ठहरा।
शहीद होने पर मान सर्वेश का भी।।

अंग-भंग करना कोई तालिम नहीं है।
विरोध हो ऐसी बर्बरता आदेश का भी।।

पार्थिव शरीर से छेड़ शैतानियत होती।
हर धर्म ये सिखाए अखिलेश का भी।।

युद्ध सदा ही घाटे का सौदा,न करो।
प्रेम,सौहार्द में आनंद नीलेश का भी।।

आज मेरा कल तेरा सिर कटेगा ऐसे।
हर रिस्ता रोयेगा पीछे सुदेश का भी।।

शांति,अमन का पाठ पढ़ो पढ़ाओ रे!
प्यार से महके कोना परिवेश का भी।।

आने वाली नसलें सुख की साँस लें।
स्वर्ग हो जाए भूलोक जनेश का भी।।

हिन्दू,मुस्लिम एक नूर से उपजे तुम।
शत्रु बन न तोड़ो नेम लोकेश का भी।।

दिलों की दुरियां कम करो वक्त रहते।
वरना मिटो,न बचे निशां कलेश का भी।।

“प्रीतम”कब उद्दार होगी ये इंसानी रूह?
जब देखेगी तांडव भूपर महेश का भी।।
***********
***********
राधेयश्याम….बंगालिया….प्रीतम….कृत

Author
Recommended Posts
बेटी
#बेटी बेटी है तो ही कल है.. वह जीवन का हर पल है, वही संस्कार है, वही धर्म है, वह जीवन का हर सृजन है..... Read more
कहकर हर हर गंग
अपनी अपनी विवेचना को कह कर वे सत्संग । तम सागर में हमें डुबाते कहकर हर हर गंग ।। धर्मार्थ प्रयोजित कालाधन करे धर्म बदरंग... Read more
तेवरी
हिंसा से भरा हुआ नारा अब बोले धर्म बचाना है हर ओर धधकता अंगारा अब बोले धर्म बचाना है | जो कभी सहारा नहीं बना... Read more
धर्म के ठेकेदार
इतिहास के पन्नों में, मिलती गवाही जहाँ। धर्म ठेकेदारो ने , ..…की सदा तबाही यहाँ ।। युद्ध परिणामों पे, ..........बहू प्रमाण है यहाँ। मनगणन्त विषयों... Read more