.
Skip to content

**ख्वाबों की फस्लें आज भी मैं बोया करता हूं**

Er Anand Sagar Pandey

Er Anand Sagar Pandey

गज़ल/गीतिका

August 9, 2016

एक पुरानी गज़ल-

**ख्वाबों की फसलें आज भी मैं बोया करता हूं::गज़ल**

हक़ीक़त जान ले कि रात भर मैं रोया करता हूं,
बहुत हैं दाग दामन में जिन्हें मैं धोया करता हूं l

यक़ीनन बांझ हैं दिल की जमीं मैं मान लेता हूं,
मगर ख्वाबों की फसलें आज भी मैं बोया करता हूं l

मेरा अरसा गुज़र गया तेरी यादों की चौखट पर,
ना जाने क्यूं तेरी यादों में ऐसे खोया करता हूं l

उगा करती है तेरी याद इन पलकों के गोशों में,
जिसे मैं आंसुओं से सींचता,संजोया करता हूं l

एक मुद्दत से कई ख्वाब मेरी चौखट पे बैठे हैं,
मेरी आंखें बता देंगी मैं कितना सोया करता हूं l

ये बात सच है कि मैं लोगों से तेरा ज़िक्र नहीं करता,
मगर छुप-छुप के तुझे गज़लों में पिरोया करता हूं ll

All rights reserved.

-Er Anand Sagar Pandey

Author
Er Anand Sagar Pandey
I'm an electronics engineer and working in a private company in Rajasthan. Basically I belong to Deoria(Uttar Pradesh). Writing is my passion and I have been writing since 1998. A few of my books are published in which "Adhoori tamannayen"... Read more
Recommended Posts
मुक्तक
होते ही शाम तेरी प्यास चली आती है! मेरे ख्यालों में बदहवास चली आती है! उस वक्त टकराता हूँ गम की दीवारों से, जब भी... Read more
मै भी भीग जाऊँ!!
मैं भी भीग जाऊँ। ........................ सोचता हूँ एकबार मैं भी भीग जाऊँ। इस बरसात प्रिय के साथ घनी जुल्फों की छाव में प्रियतम की बाहों... Read more
इंसानियत से इंसान पैदा होते है !
एक बूंद हूँ ! बरसात की ! मोती बनना मेरी फिदरत ! गर मिल जाए, किसी सीपी का मुख खुला ! मनका भी हूँ... धागा... Read more
दूरी बनाम दायरे
दूरी बनाम दायरे सुन, इस कदर इक दूजे से,दूर हम होते चले गए। न मंजिलें मिली हमको, रास्ते भी खोते चले गए। न मैं कुछ... Read more