Skip to content

क्यों हो खफा यू तुम बताओ अब मुझे

MANINDER singh

MANINDER singh

गज़ल/गीतिका

October 25, 2016

क्यों हो खफा यू तुम बताओ अब मुझे,
चुप इस कदर रह मत सताओ अब मुझे,

अच्छे नहीं लगते मुझे रूठे से तुम,
कोई सुहाना पल सुनाओ अब मुझे,

मेरे सनम ऐसी खता क्या है हुई,
सब तोड़ दो तुम चुप बताओ अब मुझे,

सोचा न था हालात ऐसे हो जायेंगे,
कर के अकेला तू न जा अब मुझे,

था मैं कभी शामिल दुआ में तेरी “मनी”
मूरत न राहो की बनाओ अब मुझे,,

Author
MANINDER singh
मनिंदर सिंह "मनी" पिता का नाम- बूटा सिंह पता- दुगरी, लुधियाना, पंजाब. पेशे से मैं एक दूकानदार हूँ | लेखन मेरी रूचि है | जब भी मुझे वक्त मिलता है मैं लिखता हूँ | मशरूफ हूँ मैं अल्फ़ाज़ों की दुनिया... Read more
Recommended Posts
तुम.... तब और अब (हास्य-कविता)
तुम.... तब और अब **************************************** तब तुम अल्हड़ शोख कली थी, अब पूरी फुलवारी हो, तब तुम पलकों पर रहती थी, अब तुम मुझ पर... Read more
विरह गीत *********** बरसता भीगता मौसम, अगन तन में लगाता है। करूँ क्या तुम बताओ मैं, मुझे सावन रुलाता है। दिवा जब अंक में जाता,... Read more
बेटियां
मैं नहीं वो कली अब, खिली हो जो मुरझाने को, अब नहीं मैं अबला नारी, बनी हो जो सताने को. नहीं बनना है अब मुझे,... Read more
तो...
क्या रह गया है बाकी अब? अब क्यों कुछ कहना है बताओ तो! दूरियाँ बहुत हैं, नही मिट सकती अब। कहो तो,क्या कहोगे तुम! गर... Read more