.
Skip to content

क्या मुझे भी अधिकार है

satyendra kumar

satyendra kumar

कविता

March 31, 2017

हाँ ! मै तुमसे प्यार करता हूँ
और जनता हूँ
तुम भी बखूबी समझ गए थे उस दिन
जब हजारों रास्ते सामने थे तुम्हारे
और एकाधिकार भी था
मेरी भूल का तुमने प्रतीकार ना किया
साथ ही बढ़ते चले गए।
वक़्त के उस मोड पर तुम्हें
मेरी भूल ही भूल ना लगी
.
अब इसे तुम्हारा मुझ पर
एक सवाल ही शेष समझता हूँ
क्या मुझे भी अधिकार है
.
©-सत्येंद्र कुमार

Author
satyendra kumar
मै जिला फ़तेहपुर उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ । उम्र 21 वर्ष है। साहित्य मे कविता, गीत और गजल ज्यादा पसंद है। email. --- satya8794@gmail.com mob. ---- 9457826475
Recommended Posts
बेटी
मेरी भी जमी है, है मेरा आसमां ; मुझे भी जीने का अधिकार चाहिए ; माँ-पापा आप दोनों का थोड़ा सा प्यार चाहिए ! न... Read more
हाँ मैं हूँ तेरे िइंतज़ार में
हाँ मैं हूँ तेरे इंतज़ार में मुझे कोई पर्दा नहीं इक़रार में, हाँ मैं हूँ तेरे इंतज़ार में, साँसें रुकी हैं इसी दरकार में, तू... Read more
कविता
कर्जदारी कैसी कैसी... मैं कर्जदार था चार दाने भी मयस्सर नहीं थे मुफलिसी में सन्नाटे घर में बसते थे..अब रिश्ते नाते सब लिपट के हँसते... Read more
ज़माने तेरी मिह्रबानी नहीं हूँ
शजर हूँ, तिही इत्रदानी नहीं हूँ चमन का हूँ गुल मर्तबानी नहीं हूँ ख़रा हूँ कभी भी मुझे आज़मा लो उतर जाने वाला मैं पानी... Read more