.
Skip to content

कुछ वक्त साथ ले आउँ !!

NIRA Rani

NIRA Rani

कविता

October 6, 2016

फुर्सत हो तो मैं आउँ
कहो तो कुछ वक्त साथ ले आउँ
तुम्हे वक्त नही है जमाने से
मुझे फुर्सत नही
तेरी यादों की झडी़ लगाने से
तुम कहते हो तुमने वक्त से जंग छेड़ी है
तुम भागना चाहते हो … पकड़ना चाहते हो
वक्त को अपनी आगे झुकाना चाहते हो
पर देखो ..वक्त तो तुमसे जंग मे कब का हार चुका है
तुम कितने आगे आ गए
वक्त कब का पिछड़ चुका है!!!!!!!
वक्त की आड़ मे कितना कुछ खो रहे हो
संस्कारो और दायित्वों से मुहँ मोड़ रहे हो
कही ऐसा न हो ..
कि आज तुम कहते हो ..वक्त नही मिलता
कल ये कहो वक्त नही गुजरता ..
वक्त नही कटता…

Author
NIRA Rani
साधारण सी ग्रहणी हूं ..इलाहाबाद युनिवर्सिटी से अंग्रेजी मे स्नातक हूं .बस भावनाओ मे भीगे लभ्जो को अल्फाज देने की कोशिश करती हूं ...साहित्यिक परिचय बस इतना की हिन्दी पसंद है..हिन्दी कविता एवं लेख लिखने का प्रयास करती हूं..
Recommended Posts
कलम घिसाई 2   **वक्त**
वक्त वक्त की बात है आये सबका वक्त। वक्त जिसके साथ नही वो ही है कमबख्त।। * कमबख्त है वो जिसका गया हाथ से वक्त।... Read more
* वक़्त बदलेगा मेरा भी *
सबका वक़्त बदलता है ! एक दिन वक़्त बदलेगा मेरा भी !! आज चाहे वक़्त जैसा भी हो ! कल वक़्त बदलेगा मेरा भी !!... Read more
वक्त
वक्त से सीखा की वक्त किसी के लिये रूकता नहीं वक्त ने ही जताया,वक्त सब का एक सा चलता नहीं बदलते वक्त के साथ जो... Read more
वक़्त और मैं
वक़्त और मैं १. अधूरी ख्वाहिशें पूरा करने की बारी है वक़्त से मेरी इतनी सी जंग जारी है २. वक़्त से एक जंग लड़... Read more